देश/प्रदेश

गैरसैंण होगी उत्तराखंड की ग्रीष्मकालीन राजधानी, CM रावत ने की घोषणा

गैरसैंण : लंबी जद्दोजहद के बाद आखिरकार राज्य की जनभावनाओं के केंद्र गैरसैंण को राजधानी का रुतबा हासिल हो गया। विधानसभा के बजट सत्र के दौरान बुधवार को वर्ष 2020-21 का बजट पेश करने के बाद अंत में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने घोषणा की कि गैरसैंण राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी होगी। इस पर सत्ता पक्ष के सभी विधायकों ने मेजें थपथपाकर और खड़े होकर मुख्यमंत्री की इस घोषणा का स्वागत किया। बाद में पत्रकारों से बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत सोच विचार और मंथन के बाद उन्होंने यह फैसला लिया। यह राज्य आंदोलन के शहीदों, मातृशक्ति, नौजवानों व आंदोलनकारियों को सर्मिपत है। इससे दूरस्थ क्षेत्रों के अंतिम व्यक्ति तक विकास के लक्ष्य को हासिल करने में मदद मिलेगी।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने एक घंटे 36 मिनट का बजट भाषण पूरा करते ही कहा कि पूरे उत्तराखंड और देश-दुनिया में रह रहे प्रवासियों की नजर इस सत्र पर टिकी है। उनकी अनेक आशाएं, अपेक्षाएं सत्र से हैं। उत्तराखंड आंदोलन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जब यह पर्वतीय राज्य बना तो इसके पीछे सीधे तौर पर यहां का पिछड़ापन केंद्र में था। दूरस्थ क्षेत्रों तक अंतिम व्यक्ति तक विकास का लाभ पहुंचे, यह हमारा लक्ष्य है। यह कहते हुए वह भावुक भी हुए और फिर घोषणा की कि गैरसैंण राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी होगी। इस दौरान जय उत्तराखंड का उद्घोष भी हुआ। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने इसका स्वागत करते हुए कहा गैरसैंण ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा पर सदस्य ताली भी बजा सकते हैं।

विशेष