देश/प्रदेश

गन्ना किसानों पर एक तरफ मौसम की मार तो दूसरी तरफ शुगर मिल की मनमानी

रुड़की: जहां एक तरफ  बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि ने गन्ना किसानों की फसल बर्बाद कर दी. वहीं शुगर मिल भी समय से गन्ना किसानों का भुगतान नहीं कर रही है. ऐसे में गन्ना किसानों को मजबूरन सड़क पर उतकर प्रदर्शन करना पड़ा. उनका कहना है कि चौतरफा मार से उनके सामने बड़ा आर्थिक संकट खड़ा हो गया है.

गन्ने के भुगतान को लेकर लिबबरहेड़ी उत्तम शुगर मिल के सामने बुधवार को किसानों ने सैंकड़ों की संख्या में इकट्टा होकर प्रदर्शन किया. किसानों का आरोप है कि शुगर मिल सही समय पर गन्ने का भुगतान नहीं कर रहा है, जिससे क्षेत्र के किसानों को आर्थिक समस्या झेलनी पड़ रही है.

वहीं, दूसरी तरफ लिबबरहेड़ी सहकारी गन्ना विकास समिति की अध्यक्ष रेणु रानी ने भी मिल प्रबंधन पर तानाशाही का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि किसानों की समस्या को लेकर प्रबंध समिति गंभीर है.

रेणू रानी ने कहा कि शुगर मिल ने समाचार पत्रों को गन्ना भुगतान की सूचना दी थी, जबकि समिति के सचिव ने चैक न मिलने की जानकारी दी. मिल प्रबंधन पर समिति के अध्यक्ष का आरोप है कि मिल प्रबंधन ने चैक देने के लिए कहा है. लेकिन बैंक खाते में प्रयाप्त धन राशि नहीं है. जिस कारण चैक बाउंस हो गए. ये समिति ओर गन्ना किसानों के साथ धोखा है.

इस संबंध में उत्तम शुगर मिल के उपमहाप्रबंधक अनिल कुमार ने कहा कि बुधवार को 13 दिन का भुगतान समिति को भेज दिया गया है. तकनीकी खराबी के कारण चैक बाउंस हुआ था. लेकिन अब चैक क्लियर हो चुका है.

विशेष