देश/प्रदेश

फडणवीस बने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री

मुंबई: देवेंद्र फडणवीस ने दोबारा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद शपथ ली है. भारतीय जनता पार्टी ने शरद पवार की पार्टी राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को अपने पाले में करके महाराष्ट्र में दोबारा देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व में सरकार बना ली है. एनसीपी के नेता अजित पवार ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली है.

गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी ने फडणवीस को राभवन में पद और गोपनियता की शपथ दिलाई. एक ताजा राजनीतिक घटनाक्रम में शनिवार को बीजेपी और एनसीपी ने सरकार बना ली है. देवेंद्र फडणवीस दुसरी बार महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली है. अजीत पवार को डिप्टी सीएम बनाया गया है.

देवेंद्र फडणवीस ने एनसीपी के बीजेपी में शामिल होने पर कहा कि महाराष्ट्र में स्थाई सरकार के लिए ही एनसीपी भाजपा में शामिल हुई है.

किसानों की समस्याओं को हल करने के लिए ही पवार की पार्टी हमारे साथ आई है. उन्होंने उद्धव ठाकरे की पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि शिवसेना के कारण ही ऐसी नौबत आई है. उन्होंने आगे कहा कि महाराष्ट्र खिचड़ी सरकार नहीं स्थिर सरकार की आवश्यकता है.

हमारे साथ लड़ी शिवसेना ने उस जनादेश को नकार कर दूसरी जगह गठबंधन बनाने का प्रयास किया. महाराष्ट्र को स्थायी सरकार देने का फैसला करने के लिए अजित पवार को धन्यवाद.

अजित पवार ने कहा कि महाराष्ट्र किसानों की समस्या को प्राथिमिकता दी जाएगी.

पीएम का ट्वीट

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देवेन्द्र फडणवीस और अजित पवार को ट्वीट कर शुभकामनाएं दी.

उन्होंने ट्वीट में लिखा कि देवेन्द्र फडणवीस और अजित पवार जी को महाराष्ट्र के सीएम और डिप्टी सीएम के रूप में शपथ लेने पर शुभकामनाएं. मुझे विश्वास है कि वे महाराष्ट्र के उज्ज्वल भविष्य के लिए लगन से काम करेंगे.

बता दें कि कांग्रेस और एनसीपी नेताओं ने शुक्रवार तक शिवसेना के साथ सरकार बनाने की बात कही थी. लेकिन आज एकाएक सबकुछ बदल गया और महाराष्ट्र की राजनीति के शिखर पर एक बार फिर देवेंद्र फडणवीस आसीन हो गए हैं.

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि महाराष्ट्र में एक स्थिर सरकार की आवश्यकता थी जिसके कारण उन्होंने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है.

दूसरी तरफ सूत्रों से खबर मिल रही है कि अजित पवार के साथ उनके 22 एमएलए बीजेपी को समर्थन दे दिया है. सूत्र से यह भी पता चला है कि शिवसेना के कुछ विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. हालांकि इस पर अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है.

बता दें कि इससे पहले महाराष्ट्र में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की बैठक में मुख्यमंत्री के नाम पर कोई अंतिम फैसला नहीं हो पाया था.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेता ने कहा, ‘मुझे एक बार फिर लोगों की सेवा करने का मौका देने के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और जे पी नड्डा का आभार जताता हूं.’

उन्होंने कहा कि अजित पवार ने भगवा पार्टी को समर्थन दिया और निर्दलीय विधायकों तथा छोटी पार्टियों के समर्थन के साथ भाजपा ने सरकार बनाने का दावा पेश करने का फैसला किया.

उपमुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद अजित पवार ने कहा, ’24 अक्टूबर को नतीजे आने से लेकर अब तक कोई पार्टी सरकार नहीं बना पा रही थी. महाराष्ट्र में किसानों के मुद्दों समेत कई दिक्कतें थी इसलिए हमने एक स्थायी सरकार बनाने का फैसला किया.’

हालांकि, शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा था कि उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बनने को तैयार हैं. शुक्रवार तक सबकुछ ठीक-ठाक ही चल रहा था.

शनिवार को तीनों पार्टियां सरकार बनाने पर निर्णय लेने वाली थी. लेकिन कहते हैं न कि राजनीति में कुछ भी हो सकता है और हुआ भी वही.

अब महाराष्ट्र की राजनीति की शुक्रवार वाली तस्वीर बदल चुकी है. शनिवार को देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व को एनसीपी ने समर्थन दे दिया है.

महाराष्ट्र में हुए सियासी उलटफेर पर एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल का बड़ा बयान आया है. उन्होंने अजित पवार के इस कदम पर सफाई देते हुए कहा कि यह एनसीपी का निर्णय नहीं है और ना ही शरद पवार का कोई समर्थन है.

विशेष