उत्तराखंड

रिस्पना और बिंदाल नदी पर 4 साल में बनेगा एलिवेटेड रोड, जाम से मिलेगी राहत

देहरादून (Dehradun) में जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए रिस्पना (Rispana River) और बिंदाल नदी (Bindal River) पर एलिवेटेड रोड़ बनाये जाने का खाका तैयार हो गया है. एलिवेटेड रोड़ बन जाने से शहर के भीतर जाम से बड़ी राहत मिलेगी. इसको लेकर मुख्य सचिव एसएस संधू पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के साथ बैठक कर चुके हैं. साथ ही इस रोड़ का फिजिबिलिटी सर्वे भी हो चुका है. हालांकि रिस्पना और बिंदाल नदी पर एलिवेटेड रोड़ बनाये जाने को लेकर कुछ लोगों ने सवाल भी उठाये हैं.

चार साल में बनकर होगी तैयार
शहर के जाम से निजात दिलाने के लिए देहरादून की रिस्पना और बिंदाल नदी बड़ी भूमिका निभाने जा रही हैं. दरअसल, इन नदियों के ऊपर एलिवेटेड रोड़ बनाये जाने को लेकर खाका तैयार हो गया है, जो शहर में जाम के झाम से राहत देने में बड़ी मदद करेगा.

रिस्पना और बिंदाल नदी पर बनने वाला एलिवेटेड रोड़ चार साल में बनकर तैयार हो जाएगा. इसके लिए पीडब्ल्यूडी ने फिजिबिलिटी सर्वे कराया है. वहीं बिंदाल नदी पर 15 किमी एलिवेटेड रोड बनेगी, जबकि रिस्पा नदी पर 11 किमी एलिवेटेड रोड बनेगी. ये सड़क मसूरी रोड पर कनेक्ट होगी. इस एलिवेटेड रोड को बनाने में 3400 करोड़ रूपए का खर्च आएगा. अब यात्री आईएसबीटी से सीधे मसूरी जा सकेंगे.

लोगों ने नदी की स्वच्छता पर उठाया सवाल
ये सड़क देहरादून की सड़कों का कंजेशन काफी हद्द तक कम करने में कारगार सिद्द होगी. देहरादून शहर में आबादी के बढ़ते दबाव और यातायात की समस्या की वजह से ये खाका तैयार किया गया है. रिस्पना पुल से सहस्त्रधारा और बिंदाल पुलिस से मैक्स अस्पताल तक एलिवेटेड रोड़ बनाई जायेगी.

ये प्रोजेक्ट देहरादून शहर की आये दिनों सबसे बड़ी समस्या बने जाम के लिए रामबाण साबित होगा. हालांकि रिस्पना नदी पर रोड़ बनने को लेकर इसी स्वच्छता के लिए काम कर रहे लोगों ने सवाल भी उठाये हैं. उनका कहना है कि रिस्पना को संवारने का जो सपना था, उसपर पूरा काम नहीं हो पाया. अब अगर इसपर एलिवेटेड रोड़ बन जाती है तो ऐसे में रिस्पना नदी के पुनर्जीवन का सपना, सपना ही रह जायेगा.

पूर्व सीएम का रहा है सपना
आपको बता दें कि मुख्यमंत्री रहते हुए त्रिवेंद्र सिंह रावत ने रिस्पना नदी को ऋषिपर्णा बनाने का सपना संजोया था और इसपर काम भी शुरू किया था. हालांकि रिस्पना को ऋषिपर्णा बनाने का सपना धरातल पर नहीं उतर पाया. आज भी ये नदी नाले में ही तब्दील है. पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि एलिवेटेड रोड समय की मांग है लेकिन रिस्पना के प्रभाव को प्रभावित किये बगैर काम किया जाना चाहिए.

Leave a Response