उम्मीदें

नैनीताल में कूड़ा रिसाइकल प्लांट लगाने की कवायद फिर शुरू

नैनीताल : बजट मिलने के बावजूद नैनीताल में तीन वर्षों से स्थापित नहीं हो पाया कूड़ा रिसाइकल प्लांट आखिरकार अब शुरू हो जाएगा। नगर पालिका और कुमाऊं विवि के रसायन विज्ञान विभाग द्वारा संयुक्त रूप से बनाए गए अमृतम प्रोजेक्ट को स्थापित करने की कवायद फिर शुरू हो गई है।

नगर पालिका ने रिसाइकल प्लांट स्थापना को लेकर अप साइक्लिंग मशीनें मंगवा ली हैं। प्लास्टिक से ग्रैफीन और पेट्रोलियम पदार्थ बनाया जाएगा। प्लांट स्थापित होने के बाद शहर और समीपवर्ती क्षेत्रों के कूड़ा निस्तारण की समस्या तो दूर होगी ही पालिका को अच्छी आय भी प्राप्त होगी।

शहर से रोजाना निकलने वाले कूड़ा निस्तारण की समस्या को देखते हुए नगर पालिका और डीएसबी परिसर के नैनो साइंस एवं नैनो टेक्नोलॉजी सेंटर की ओर से 2019 में अमृतम प्रोजेक्ट बनाया गया था। जिसमें अजैविक कूड़े खासकर प्लास्टिक को रिसाइकल कर ग्रैफीन और अन्य बहुपयोगी पदार्थ बनाए जाना शामिल था।

पांच करोड़ लागत के इस प्रोजेक्ट को जीबी पंत हिमालय पर्यावरण एवं विकास संस्थान के राष्ट्रीय हिमालय मिशन के तहत वन एवं पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार को भेजा गया। मंत्रालय ने प्रोजेक्ट को मंजूरी देते हुए कुछ ही समय बाद 2.29 करोड़ की धनराशि भी पालिका के खाते में हस्तांतरित कर दी। मगर कोविड के चलते मशीने नहीं मंगवाई जा सकी।

अब पालिका ने फिर प्लांट स्थापित करने को लेकर कवायद शुरू कर दी है। ईओ अशोक वर्मा ने बताया कि प्लास्टिक को रिसाइकल करने को लेकर अपसाइकलिंग मशीन स्थापित की जानी है। मशीन और उपकरण मंगवा लिए गए है। जल्द नारायण नगर में प्लांट स्थापित कर दिया जाएगा।

पहला निकाय होगा नैनीताल

वैज्ञानिकों का दावा है कि नैनीताल के नारायण नगर में स्थापित होने जा रहा कूड़ा रिसाइकल प्लांट वैज्ञानिक विधि से कूड़े को रिसाइकल करने वाला प्रदेश का पहला प्लांट होगा। जिसमें प्लास्टिक को रिसाइकल कर ग्रैफीन और पेट्रोलियम पदार्थ बनाये जायेंगे।

Leave a Response