देश/प्रदेश

लॉकडाउन के दौरान बाजार में जीवन रक्षक दवाओं का संकट गहराने लगा, आवश्यक दवाओं का स्टॉक खत्म

कोटद्वार: लॉकडाउन के दौरान बाजार में जीवन रक्षक दवाओं का संकट गहराने लगा है। फुटकर के साथ ही दवा के थोक विक्रेताओं के पास दर्जनभर से अधिक आवश्यक दवाओं का स्टॉक खत्म हो गया है। ऐसे में सबसे अधिक परेशानी गंभीर रूप से बीमार लोगों को हो रही है। यदि यही स्थिति रही तो समस्या और अधिक बढ़ सकती है।

लॉकडाउन के बाद से दूसरे राज्यों व जनपदों से आने वाले वाहनों पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाया गया है। पुलिस व प्रशासन की ओर से केवल खाद्य सामग्री लेकर आने वाले वाहनों को ही शहर में घुसने की इजाजत दी गई है। ऐसी स्थिति में कोटद्वार व आसपास के मेडिकल स्टोर में दवा नहीं पहुंच पा रही है। जितना पुराना स्टॉक पड़ा हुआ था, वह भी खत्म होने की कगार पर पहुंच गया है।

मेडिकल स्टोर संचालकों ने बताया कि लॉकडाउन के कारण अधिकांश कंपनियां दवा नहीं बना रही हैं, जो कंपनियां दवा बना भी रही है। उनकी दवा परिवहन बंद होने के कारण शहर तक नहीं पहुंच पा रही हैं। नतीजा, कई अहम दवा मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध नहीं है। दवा के लिए लोगों को शहर के मेडिकल स्टोर में भटकना पड़ रहा है। बावजूद इसके भी उन्हें कई दवा उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। शहर में सबसे अधिक परेशानी हार्ट, शुगर व बीपी के मरीजों को हो रही है।

विशेष