देश/प्रदेश

रुक-रुक कर हुई बारिश के चलते पहाड़ में एक बार फिर से ठंड लौट आई

अल्मोड़ा : पर्वतीय अंचल में शुक्रवार सुबह से ही रुक-रुक कर हुई बारिश के चलते अधिकतम व न्यूनतम तापमान में गिरावट आ गई है। इससे पहाड़ में एक बार फिर से ठंड लौट आई है। ठंड के चलते बाजार में फड़ लगाकर अपनी आजीविका चलाने वाले कारोबारियों को काफी फजीहत का सामना करना पड़ा। इधर, बारिश वन महकमे के लिए लाभकारी साबित हुई है।

मौसम ने गुरुवार से ही रंग बदलना शुरू कर दिया था। शुक्रवार सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहे और दिन भर रुक-रुक कर बारिश होती रही। बारिश के चलते बोर्ड परीक्षार्थियों को भी आवाजाही में काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिक डॉ. बीएम पांडे का कहना है कि अब ज्यादा बारिश रबी की फसल व सब्जियों के लिए लाभकारी नहीं है। इसलिए किसान अपने खेतों में जल निकासी की व्यवस्था कर लें। यदि खेतों में जल भराव रहा तो इससे गेहूं व मटर की फसल पर विपरीत असर पड़ने की संभावना है। इधर, बारिश ने वनाग्नि सुरक्षा के प्रति चिंतित वन महकमे को राहत दी है।

लोनिवि की अदूरदर्शिता के चलते सड़क किनारे बनी नालियां अधिकांश स्थानों पर चोक होने से गंदा पानी सड़कों पर बहता रहा। इससे पैदल चलने वाले राहगीरों को मुसीबतों का सामना करना पड़ा। ठंड से बचने के लिए लोगों ने जैकेट, टोपी, मफलर के साथ ही विद्युत ऊष्मक आदि का सहारा लिया। इधर पिछले एक सप्ताह पहले नगर का जो अधिकतम तापमान 20.5 डिग्री सेल्सियस था। वह शुक्रवार को घटकर 11 डिग्री सेल्सियस पर थम गया। इसी प्रकार न्यूनतम तापमान में भी गिरावट आई है, एक हफ्ते पहले जो न्यूनतम पारा 7.3 डिग्री सेल्सियस था। वह लुढ़ककर पांच डिग्री सेल्सियस पर आ पहुंचा है।

विशेष