देश/प्रदेश

रुद्रप्रयाग में जिलाधिकारी ने सुनी ग्रामीणों की समस्या

रुद्रप्रयाग [दिलबर सिंह] :  बिष्टजिलाधिकारी मंगेष घिल्डियाल द्वारा विकासखंड अगस्त्यमुनि के अंतर्गत ग्राम हाट में रात्रि चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याये सुनी।

रात्रि चैपाल में उपस्थित जनप्रतिनिधि, ग्राम प्रधान, ग्रामवासियों एवं अधिकारियों/कर्मचारियों का स्वागत करते हुये बैठक का शुभारम्भ किया गया।

जिलाधिकारी द्वारा सरकार के द्वारा चलाये जा रहें विकास कार्यो के सम्बन्ध में ग्राम वासियों को जानकारी से अवगत कराया गया। जिसमें में ग्राम वासियों के द्वारा गांव में हुये विकास कार्यो एवं अपनी-अपनी समस्याओं से जिलाधिकारी को अवगत कराया गया।

चैपाल में ग्राम सभा हाट के ग्राम वासियों के द्वारा अवगत कराया गया है कि ग्राम हाट से गवनी गावं पुल का निर्माण न होने के कारण आवागमन हेतु हाट ग्राम वासियों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है आवागमन हेतु ट्राली एवं भ्यूंता लगाये जाने का अनुरोध किया गया जिसमें जिलाधिकारी द्वारा अवगत कराया गया है

कि, पुल का निर्माण तत्काल किया जायेगा एवं वर्षा काल के दौरान ट्राली/भ्यूंता के सम्बन्ध में तत्काल कार्यवाही की जायेगी। श्री रामेश्वर प्रसाद ग्राम हाट के द्वारा अवगत कराया गया है कि, हाट गदेरे का पानी हमारे पशु खेती बागवानी आदि के लिये प्रयोग किया जाता था

परन्तु जब से एल0एण्ड टी0 कम्पनी के द्वारा डैम का निर्माण कार्य किया जा रहा है उक्त गदेरे का पानी दूषित हो गया है जिससे खेती बागवानी एवं पशु आदि के लिये खतरा पैदा हो गया हैं। ग्रामवासियों द्वारा अवगत कराया है कि, एल0एण्ड टी0 कम्पनी के द्वारा ग्राम हाट के स्कूल जाने वाले बच्चों के लिय बस लगाई गयी थी वर्तमान समय में उनके द्वारा बस बन्द कर दी गयी है।

जिससे बच्चों को आने जाने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। श्री रधुवीर सिंह ग्राम हाट द्वारा अवगत कराया गया है कि, प्राथमिक विद्यालय के नीचे 04 परिवार निवास करते है जिनका आने जाने का रास्ता एल0एण्ड टी0 कम्पनी के द्वारा बन्द कर दिया गया है।

शंकरमणी गोस्वामी उम्र 53 साल के द्वारा अवगत कराया गया है कि उनकी आर्थिक स्थिति अत्यधिक दयनीय होने के कारण अर्थिक सहायता के संबंध में, रामेश्वर प्रसाद के द्वारा अवगत कराया गया है कि एल0एण्ड टी0 कम्पनी के द्वारा उनके क्षतिग्रस्त खेतों का मुआवजा के संबंध में, रेखा देवी पत्नी मनोज सिंह रावत ग्राम हाट ने आवासीय भवन जीर्ण-शीर्ण होने के संबंध में, ग्रामवासी हाट के द्वारा अवगत कराया गया है

जगदीश सिंह नेगी, प्रकाश गोस्वामी, सरिता देवी पत्नी वीरेन्द्र सिंह, शांति देवी पत्नी दयाल सिंह, अनिता देवी पत्नी शेषमणि कुल पांच परिवारों के द्वारा शौचालय का निर्माण नही किया गया है। ग्राम सभा हाट के आंगन वाड़ी कार्यकत्री द्वारा अवगत कराया है

कि, ग्राम सभा हाट आंगन वाड़ी केन्द्र की फर्श एवं आगंन क्षतिग्रस्त होने के कारण काफी परेशानी हो रही है जिसे ठीक किया जाना अति आवश्यक हैं। ग्रामवासियों द्वारा अवगत कराया गया है कि, हाट गांव में बरसाती पानी आने से लोगो के घरों में पानी धुस जाता है

जिससे आम आदमी को काफी परेशानी होती पानी को घरों में जाने से रोकने के लिये नहर/नाली को निर्माण किया जाना अति आवश्यक है। ग्रामवासियों के द्वारा अवगत कराया गया है कि ग्राम हाट मंदाकिनी नदी के किनारे सुरक्षा दीवार लगायी जाय।

जिससे खेतों/जानमाल के खतरे को रोका जा सके। ग्रामवासियो के द्वारा अवगत कराया गया है कि, निरमिलेश्वर महादेव पोराणिक मंदिर का सौन्दर्यकरण एवं जीर्णोद्वार हेतु मरम्मत की जानी आवश्यक है।

ग्रामवासियों के द्वारा अवगत कराया गया है कि ग्राम सभा हाट में बन्दरों के अत्यधिक आतंक होने के कारण से खेती बाड़ी व चलना फिरना काफी मुशकिल हो गया है इनके आतंक से निजात दिलाया जाय।

शिब सिंह पत्नी अनीता देवी के द्वारा अवगत कराया गया है कि, उनके पति एल0एण्ड टी0  कार्यरत थे उनके पति काफी समय से लापता होने के कारण उनके पास आय का कोई साधन नही है।

जगदीश प्रसाद गौस्वामी वर्ष 2013 एल0एण्ड टी0 कम्पनी में वाहन चालक के पद पर तैनात था वर्ष-2013 की दैवी आपदा में उनको चोट लग जाने के कारण एल0एण्ड कम्पनी के द्वारा उनको कोई अर्थिक राहत सहायता उपलब्ध नही करायी गयी उनकी आर्थिक स्थिति अत्यधिक दयनीय है।

जगदीश प्रसाद गोस्वामी के द्वारा अवगत कराया गया है कि, उनकी पुत्री कु0 मीनाक्षी के द्वारा ( ओ0बी0सी0) जाति से बी0एण्ड परीक्षा पास की गयी किन्तु कालेज के द्वारा उक्त धनराशी वापस नही की गयी ।

दीपेन्द्र सिंह झिकंवाण के द्वारा अवगत कराया गया है कि, कुमाली से त्यारी रास्ता निर्माण एवं नीलसैर गदेरे खेतों के किनारे सुरक्षा दीवाल लगायी जाय जिससे खेतो के नुकसान एवं आम आदमी को उसका लाभ मिल सके।
रात्रि चैपाल में तहसीलदार श्रेष्ठ गुनसोला सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।

विशेष