राष्ट्रीय

नोटबंदी के बावजूद इत्र व्यापारी पीयूष जैन के पास 180 करोड़ रुपए कैश कैसे मिला – ओवैसी

उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में एक व्यापारी के यहां से करीब 196 करोड़ रुपये का कैश बरामद किए जाने को लेकर एआईएमआईएम (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल पूछा है। ओवैसी ने कही कि नोटबंदी के बावजूद 180 करोड़ रुपये कैश कैसे मिला? गौरतलब है कि हाल ही में डीजीजीआई (DGGI) की अहमदाबाद ईकाई ने बिजनेसमैन पीयूष जैन (Piyush Jain) के कानपुर आवास और अन्य परिसरों पर छापेमारी की जिसमें कानपुर और कन्नौज में उससे जुड़ी फैक्ट्रियां भी शामिल थीं। इस दौरान जीएसटी टीम को बिजनेसमैन के यहां से 196 करोड़ रुपये की नकदी, सोना और अन्य कीमती सामान मिला। 

इसको लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, पीएम बताएं कि नोटबंदी के बावजूद यूपी में एक बिजनेसमैन के घर पर 180 करोड़ रुपये कैश कैसे मिल सकता है? पीएम को स्वीकार करना चाहिए कि उनके दिमाग की उपज नोटबंदी पूरी तरह से विफल हो गई है और इसने चोटे उद्योगों और नौकरियों को नष्ट कर दिया है। 

इत्र व्यापारी पीयूष जैन को रविवार को कानपुर में उनके आवास और कारखाने से करोड़ों रुपये नकद जब्त किए जाने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। आयकर विभाग द्वारा पीले कागज में लिपटे नकदी के ढेर की तस्वीरें वायरल होने के बाद व्यापारी के परिसरों पर आयकर छापेमारी चर्चा का विषय बन गई। अहमदाबाद जीएसटी इंटेलीजेंस के डायरेक्टर के मुताबिक तलाशी के दौरान लगभग 187 करोड़ रुपये नकद बरामद किए थे जबकि अन्य दस करोड़ रुपये बाद में जब्त किए गए। इसमें कन्नौज में उसके कारखाने से पांच करोड़ और उसके आवास से पांच करोड़ की जब्ती शामिल है। जैन की फैक्टरी से बेहिसाब चंदन का तेल, करोड़ों का इत्र जब्त किया गया। खबरों के मुताबिक तलाशी के पहले दिन जब डीजीजीआई और लोकल सेंट्रल जीएसटी की टीम जैन के परिसर में पहुंची तो वह भाग गया और जांच अधिकारियों के कई कॉल पर दो घंटे बाद वापस आया।

Leave a Response