विविध

सांस्कृतिक दलों के ऑडिशन न होने से आजीविका पर संकट

नैनीताल। राज्य में सरकार की योजनाओं व कार्यक्रमों के प्रचार प्रसार का काम ठप पड़ गया है। हाईकोर्ट में एक याचिका पर हुई सुनवाई के बाद कुमाऊं के 69 सांस्कृतिक दलों से जुड़े कलाकारों का नियमावली के अनुसार तीन साल में होने वाला ऑडिशन अब तक नहीं हो सका तो गढ़वाल मंडल के सौ से अधिक सांस्कृतिक दलों के ऑडिशन का परिणाम अब तक घोषित नहीं हो सका है। ऑडिसन नहीं होने की वजह से सैकड़ों कलाकारों के सामने आजिविका का संकट पैदा हो गया है।

दरअसल सांस्कृतिक दलों की पंजीकरण व संचालन नियमावली 2002 के अनुसार हर तीन साल बाद सांस्कृतिक दलों के चयन का प्राविधान है। 2017 में ऑडिशन के बाद दलों का पंजीकरण 28 सितंबर 2020 को समाप्त हो गया था। कोविड काल में इन दलों की पंजीकरण अवधि को छह माह का विस्तार दिया गया। अप्रैल 2021 में विभाग ने पंजीकरण प्रक्रिया शुरू की तो गढ़वाल मंडल में 124 व कुमाऊं मंडल में 133 आवेदन मिले। इसी बीच सल्ट उपचुनाव की आचार संहिता लागू हुई तो आठ जुलाई को इसे अग्रिम आदेश तक विस्तारित किया गया। तीन सितंबर को जारी आदेश में गढ़वाल के ऑडिसन 15 से 18 सितंबर तथा कुमाऊं के 21 से 25 सितंबर तक तय किये गए।

Leave a Response