राष्ट्रीय

चीन बॉर्डर तक भारत बिछा रहा सड़कों का जाल, दारमा घाटी में सड़क कटिंग हुआ पूरा

पिथौरागढ़: चीन सीमा से सटी दारमा घाटी भी जल्द ही सड़क से जुड़ जाएगी. दारमा घाटी में सीपीडब्ल्यूडी Central Public Works Department (केन्द्रीय लोक निर्माण विभाग) ने सड़क कटिंग का काम पूरा कर लिया है. इसके साथ ही यहां 7 में से 6 पुलों को भी तैयार कर लिया गया है. बरसात के बाद हॉटमिक्सिंग का काम भी शुरू कर दिया जाएगा. सड़क के तैयार हो जाने से दारमा घाटी के 14 गांवों की राह तो आसान होगी ही, साथ ही सुरक्षा बलों को भी बॉर्डर तक पहुंचने में आसानी होगी.

चीन के आक्रामक रवैये को देखते हुए भारत ने भी बॉर्डर के इलाकों में तेजी से सड़कों का जाल बिछाने का काम शुरू कर दिया है. व्यास घाटी में लिपुलेख तक सड़क बनने के बाद अब चीन से लगी दारमा घाटी में दुग्तु गांव तक सड़क कटिंग का काम भी पूरा हो गया है. दुग्तु गांव चीन की ज्ञानिमा मंडी के करीब है. दुग्तु गांव तक पहुंचने के लिए न्यू सोबला-दारमा मार्ग को बनाने में भारतीय इंजीनियरों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी.

सामरिक नजरिये से महत्वूर्ण मानी जाने वाली ये सड़क इसलिए भी अहम है क्योंकि तिब्बती मंडी ताकलाकोट के बाद चीन ने ज्ञानिमा मंडी के पास भी अपना ठिकाना बनाया है. दारमा घाटी में चीन सीमा के करीब एक गांव बिदांग है, लेकिन फिलहाल ये गांव पूरी तरह से खाली है. बिदांग से पहले दांतू, तिदांग, मार्चा और सीपू में कुछ आबादी निवास करती है. दुग्तु गांव तक जिन कठिन हालातों में सड़क बनाई गई है, वो भारतीय इंजीनियरिंग का कमाल है.

विशेष