देश/प्रदेश

UP में सर्दी से 48 घंटों में 38 लोगों की मौत

लखनऊ. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) समेत समूचा उत्तर भारत (North India) इन दिनों जबरदस्त शीतलहर (Cold Wave) की चपेट में है. ठंड के प्रकोप के चलते प्रदेश में बीते 48 घंटों में 38 लोगों की मौत हो गई है. अकेले कानपुर (Kanpur) में 14 लोगों ने इस वजह से जान गंवाई है. हालांकि राज्य सरकार की तरफ से अभी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है. राजधानी लखनऊ में गुरुवार सुबह तापमान 5.1 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. मौसम विभाग के मुताबिक इससे पहले 1997 में दिसंबर के महीने में इतनी लंबी शीतलहर चली थी. मौसम विभाग के मुताबिक अभी कुछ दिनों तक ठंड से राहत मिलने के आसार नहीं है. 10 जनवरी के बाद ही हालात में सुधार की उम्मीद है.

रैन बसेरों और अलाव की कमी ने बढ़ायी मुश्किलें

वैसे तो ठंड से हर कोई परेशान है लेकिन इससे सबसे ज्यादा गरीब और बेघर लोगों को दिक्कतें पेश हो रही हैं. खासकर वो लोग जो फुटपाथ पर सोते हैं. रेन बसेरों की कमी और अलाव की समुचित व्यवस्था न होने से हालात बिगड़ते जा रहे हैं. इस मुद्दे पर कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है. विपक्ष ने इसे लेकर सरकार पर निशाना साधा है. यूपी कांग्रेस के प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने कहा कि कहीं भी अलाव की व्यवस्था नहीं है. उन्होंने कहा कि अभी तक उन्हें तो नहीं दिखी. उन्होंने तंज भरे लहजे में कहा, इतना जरूर है कि सरकार ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और एनआरसी (NRC) के मुद्दे पर प्रदेश में आग जरूर लगा दी.

कई जिलों में स्कूल बंद

इस बीच कड़ाके की ठंड को देखते हुए राज्य के कई जिलों में स्कूलों को 28 दिसंबर तक बंद कर दिया गया है. गाजियाबाद, मेरठ, बिजनौर, सहारनपुर, रायबरेली, कौशांबी, बरेली समेत इन तमाम जिलों में स्कूलों में छुट्टियां घोषित कर दी गई हैं.

विशेष