राष्ट्रीय

वॉट्सऐप और टेलीग्राम के रेगुलेशन को लेकर COAI रखी अपनी मांग

टेलीकॉम कंपनियों ने वॉट्सऐप और टेलीग्राम के रेगुलेशन को लेकर एक बार फिर अपनी मांग को दोहराया है. कंपनियों ने सरकार से गुजारिश की है कि वॉट्सऐप और टेलीग्राम जैसी OTT (ओवर-द-टॉप) ऐप्स को अपने दायरे में लिया जाए. सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (COAI) ने मंगलवार को सरकार से मांग करते हुए कहा कि ऐसे OTT ऐप्स को टेलीकॉम कंपनियों को नेटवर्क चार्ज देने चाहिए.

टेलीकॉम कंपनियों का तर्क है कि ये OTT ऐप्स सीधे तौर पर नेटवर्क डेटा को ड्राइव कर रही हैं. इसके अलावा टेलीकॉम कंपनियों ने सरकार से OTT ऐप्स की परिभाषा बनाने की मांग रखी है. इस पूरे मामले में सीएनबीसी आवाज के संवाददाता असीम मनचंदा से COAI के डीजी एसपी कोचर से बात की. इस बातचीत में कोचर ने कहा कि OTT ऐप्स को लाइसेंस के दायरे में लाया जाए और साथ ही कंपनियों को नेटवर्क का चार्ज दिया जाए. COAI ने सरकार से मांग की है कि OTT के लिए सामान सेवाएं,सामान कानून लागू होना चाहिए और इसके अलावा ओटीटी पर भी सुरक्षा नियम लागू हो.
टेलीकॉम बिल पर दिए सुझाव
COAI डीजी, एसपी कोचर ने कहा कि टेलीकॉम बिल के ड्राफ्ट के हिस्से के रूप में एसोसिएशन ने अपने सुझाव दिए हैं. COAI ने कहा कि OTT टेलीकॉम सर्विस को लेकर स्पष्टता नहीं है, सबसे पहले इसकी परिभाषा क्या है, इस पर काम करना चाहिए.
COAI ने टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स को OTT ऐप्स द्वारा मुआवजा देने की मांग दोहराते हुए कहा कि अब ऐप्स को रेवेन्यु की हिस्सेदारी मॉडल पर काम करना चाहिए.

Leave a Response