देश/प्रदेश

बिहारी मृतकों को दो-दो लाख देंगे CM नीतीश

पटना : दिल्ली के रानी झांसी रोड के निकट अनाज मंडी में लगी भीषण आग में 43 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। घायलों में कईयों की स्थिति गंभीर देखते हुए मृतकों का आंकड़ा बढ़ने की आशंका है। मृतकाें व घायलों में  अधिकांश बिहार के हैं।

घटना पर बिहार के राज्‍यपाल फागू चौहान, मुख्‍यमंत्री (CM) नीतीश कुमार (Nitish Kumar), केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी (Rabri Devi), उपमुख्‍यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi), नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) सहित कई जनप्रतिनिधियों ने शोक जताया है।

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है। इस बीच घटना को लेकर सियासत (Politics) भी शुरू हो चुकी है।

राज्यपाल फागू चौहान ने दिल्ली के अनाज मंडी क्षेत्र में घटित अग्निकांड में लोगों की मृत्यु पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है।

राज्यपाल ने बिहार समेत अन्य राज्यों के निवासियों की मृत्यु पर अपने शोक में कहा है कि यह एक अत्यन्त दुखदायी दुर्घटना है। उन्होंने मृतकों की आत्मा को चिरशांति एवं उनके शोक-संतप्त परिवार को धैर्य धारण की क्षमता प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

घटना पर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक व्‍यक्‍त किया तथा कहा कि बिहार के मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये दिए जाएंगे।

इनमें एक लाख रुपये श्रम विभाग की तरफ से तो शेष एक लाख रुपये मुख्‍यमंत्री राहत कोष से दिए जाएंगे। मुख्‍यमंत्री ने दिल्‍ली में बिहार के स्‍थानिक आयुक्‍त तथा संयुक्‍त श्रम आयुक्‍त व अन्‍य वरीय अधिकारियों को हर संभव सहायता उपलब्‍ध कराने का निर्देश दिया है।

दिल्ली के अनाज मंडी में हुई भीषण अगलगी की दुखद दुर्घटना पर पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी व नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने गहरा दुख एवं शोक व्यक्त किया है।

उन्होंने दिल्ली सरकार से अनुरोध किया है कि इस दुर्घटना के घायलों को बेहतर चिकित्सा सुविधा दी जाय और परिजनों को समुचित सहायता सुलभ कराई जाय।

राज्‍यसभा सांसद मीसा भारती (Misa Bharati) व पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने भी घटना पर शोक प्रकट किया है।

उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने दिल्ली अग्निकांड में मारे गए लोगों के प्रति गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि मृतकों में अधिसंख्य बिहार के श्रमिक हैं।

मकान मालिक तथा फैक्ट्री मालिक इस मौत के लिए जिम्मेवार हैं। ऐसे लोगों पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई करने की आवश्यकता है।

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय (Mangal Pandey) ने कहा है कि यह घटना दिल दहला देने वाली है। इस घड़ी में राज्य सरकार पीडि़त परिवारों के साथ है।

रालोसपा के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने भी मृतकों के प्रति शोक व्यक्त की है और दोषियों पर कठोर कार्रवाई की मांग की है।

इस बीच दिल्‍ली में मौजूद बिहार सरकार में जल संसाधन मंत्री संजय झा ने घटनास्‍थल का जायजा लिया। उन्‍होंने कहा कि मरने वालों व घायलों में ज्यादातर बिहार के मधुबनी, समस्तीपुर व पूर्णिया जिलों के हैं। वे अकेले रहते थे, इसलिए उनकी पहचान नहीं हो पा रही है। उन्‍होंने दुर्घटना के लिए दिल्ली की अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) सरकार को जिम्‍मेदार बताया। कहा कि सरकार ने सुरक्षा मानकों के अनुपालन को सुनिश्चित कराने में लापरवाही की।

विदित हो कि दिल्‍ली के रानी झांसी रोड के निकट अनाज मंडी की एक तीन मंजिली इमारत में कपड़े, गत्ते और प्लास्टिक के सामान की फैक्‍ट्री चलती है। रविवार की सुबह वहां अचानक आग लग गई। दुर्घटना में मरने वालों व घायलों में अधिकांश श्रमिक बिहार व यूपी के हैं। उनकी पहचान धीरे-धीरे हो रही है।

विशेष