देश/प्रदेश

सीएम ने राज्यपाल के अभिभाषण को मार्गदर्शक बताया

सीएम ने राज्यपाल के अभिभाषण को मार्गदर्शक बताया

देहरादून। गैरसैंण में राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के अभिभाषण के दौरान विपक्ष के हंगामे के बाद सत्र को तीन बजे तक स्थगित कर दिया गया। अभिभाषण में राज्यपाल ने सरकार की उपलब्धियों का बखान किया। राज्यपाल ने कहा कि पहाड़ों में रोजगार के बेहतरीन अवसर सृजित हों इसके लिए प्राउट फार्मिंग परियोजना संचालित की जाएगी। इससे लगभग 2500 प्रत्यक्ष एवं साढ़े सात हजार अप्रत्यक्ष रोजगार सृजित होंगे। बेहतर पुलिसिंग के लिए राज्य के 132 थानों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जा चुके हैं। शेष 26 थानों में लगाने की कार्यवाही अंतिम चरण में है। इससे पहले विधानसभा परिसर में पहुंचने पर राज्यपाल को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। कर्मचारियों की हड़ताल को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि  समाधान वार्ता से होगा, हड़ताल से नहीं. प्रदेश की 110 करोड़ जनता के प्रति सरकार और सरकारी कर्मचारी की जिम्मेदारी है। बजट सत्र से राज्य के विकास की स्थिति मजबूत हो इसके लिए सबको साथ चलना होगा।

बजट सत्रः राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान विपक्ष का हंगामा
देहरादून। गैरसैंण में उत्तराखंड विधानसभा का बजट सत्र, 2020 राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के अभिभाषण के साथ शुरु हो गया। अभिभाषण शुरु होते ही विपक्ष ने हंगामा शुरु कर दिया। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि अभिभाषण का कोई औचित्य नहीं है। पूरा प्रदेश समस्याओं से जूझ रहा है और सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। हंगामा कर रहे विपक्ष के विधायकों ने कहा कि गन्ना किसानों की हालत खराब हो गई है। भोजन माता से लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तक आन्दोलनरत हैं। जनता की समस्याओं को उठाना हमारा धर्म है. इन पर चर्चा शुरु की जानी चाहिए।
हंगामा कर रहे विपक्षी विधायकों ने कहा कि राज्यपाल का अभिभाषण केवल सरकारी नीतियों के बखान तक सीमित है। विपक्ष के हंगामे के बीच अभिभाषण पढ़ थी। राज्यपाल. अभिभाषण में सरकार की उपलब्धियों को  सामने रखा गया। राज्यपाल ने कहा कि आठ से अधिक क्षेत्रों के लिए मौजूदा नीतियों में संशोधन कर 10 नई नीतियां बनाई गई हैं। उद्योग क्षेत्र में 2,641 इकाइयों की स्थापना की गई है. 3,524 करोड़ का पूंजी निवेश हुआ है। जिससे 57,314 लोगों को रोजगार मिला है। पर्वतीय क्षेत्रों में ग्रोथ सेंटर के संचालन की प्रक्रिया गतिमान है। ग्रोथ सेंटर की स्थापना के लिए 1133.25 लाख की धनराशि जारी की गई है। राज्य के 15 विकास खंडों में देश के प्रतिष्ठित संस्थानों से प्रशिक्षित डिजाइनरों द्वारा शिल्पी ओं को नए डिजाइन एवं उत्पाद विकास का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

विशेष