राष्ट्रीय

केदारनाथ में दुग्ध गंगा से गरूड़चट्टी तक योग- साधना के लिए बनेंगी तीन गुफाएं

केदारनाथ धाम में अब बाबा के भक्तों के लिए तीन और गुफाएं बनने जा रही हैं। धाम में प्रस्तावित तीन गुफाओं में दो का निर्माण शुरू हो गया है। दुग्ध गंगा से गरूड़चट्टी तक बनने वाली गुफाएं तीन महीने में बनकर तैयार हो जाएंगी। आने वाले दिनों में धाम पहुंचने वाले बाबा के भक्त यहां ध्यान, योग और मेडिटेशन कर सकेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट केदारनाथ पुनर्निर्माण में कृत्रिम गुफाओं का निर्माण शामिल है। डीडीएमए-लोनिवि गुप्तकाशी द्वारा प्रस्तावित तीन गुफाओं में दो का कार्य एक सप्ताह पूर्व शुरू किया गया है। इन गुफाओं का उद्देश्य बाबा केदार के दर्शन को आने वाले श्रद्धालुओं योग, साधना व ध्यान के लिए प्रेरित करना है।

दो मीटर लंबाई व तीन मीटर चौड़ाई में बनानी जाने वाली गुफाओं के निर्माण के लिए शासन द्वारा 28.50 लाख रुपये जारी किए गए हैं और कार्य सितंबर तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। गुफाओं में जरूरी सुविधाएं मुहैया होंगी, जिससे साधकों को दिक्कत नहीं हो।  दो वर्ष पूर्व मंदाकिनी नदी के दूसरे छोर पर वुड स्टोर कंपनी द्वारा आठ लाख की लागत से ध्यान गुफा बनाई जा चुकी है। यहां बीते वर्ष 18-19 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ध्यान गुफा में 17 घंटे तक साधना की थी। यात्राकाल में गढ़वाल मंडल विकास निगम ने यात्राकाल में ध्यान गुफा का संचालन कर एक लाख से अधिक की आमदानी की। इस दौरान यहां 95 लोगों ने ध्यान किया।

दुग्ध गंगा से गरूड़चट्टी तक तीन गुफाएं तैयार की जानी हैं, जिसमें दो का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। सितंबर तक गुफाएं तैयार कर प्रशासन के हैंडओवर कर दी जाएंगी।
-प्रवीण कर्णवाल, अधिशासी अभियंता, डीडीएमए-लोनिवि, गुप्तकाशी

 

विशेष