चम्पावत

चम्पावत के पाटी व लोहाघाट के क्वारंटाइन सेंटरों बेरोकटोक लोगों के आने जाने से सेंटर बने पिकनिक स्पॉट

चम्पावत : बाहरी राज्यों और जनपदों से आने वाले लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए क्वारंटाइन किया जा रहा है, लेकिन सुरक्षा की गारंटी के बजाए क्वारंटाइन सेंटर खतरे का कारण बन गए हैं। पाटी और लोहाघाट के कई सेंटरों में क्वारंटाइन किए गए युवकों के दोस्त और परिजन सुबह शाम मिलने के लिए इन सेंटरों में पहुंच रहे हैं। सुरक्षा की व्यवस्था न होने से क्वारंटाइन सेंटर पिकनिक स्पॉट में बदलते जा रहे हैं। अपने लोगों को भोजन देने जा रहे परिजन भी घंटों क्वारंटाइन किए गए लोगों से बतिया रहे हैं जिससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा पैदा हो गया है।

पाटी विकास खंड के रीठासाहिब क्षेत्र के रीठा साहिब, परेवा, गोलडांडा, साल, टांण, मछियाड़ के क्वारंटाइन सेंटरों में जाने से पहले कई लोग अपना बैग आदि अन्य सामान दूसरे के हाथ अपने घरों को भेज रहे हैं, इससे क्वारंटाइन किए जाने का औचित्य ही समाप्त हो गया है। बिनवाल गांव के ग्राम प्रधान खीमानंद बिनवाल ने बताया कि कई क्वारंटाइन सेंटरों में बाहर से आए लोगों के स्वास्थ्य की जाच की कोई व्यवस्था नहीं है। सेंटरों में न तो सैनिटाइजर किया जा रहा है और न ही क्वारंटाइन किए गए लोगों की साफ सफाई का कोई बंदोबस्त है।

उन्होंने बताया कि कई प्रवासी लोगों को वाहनों से लाकर रीठा में छोड़ दिया जा रहा है, इनके साथ कोई सुरक्षा कर्मी मौजूद नहीं रहता जिसके कारण कुछ लोग कोरोना संक्रमण का बचने के कायदे कानूनों का पालन न कर मनमानी पर उतर आते हैं। लोहाघाट विकास खंड के पाटन, राईकोट कुंवर, पऊ, फोर्ती आदि स्थानों में बने क्वारंटाइन सेटरों में शाम के समय बाहर से आए लोगों से मिलने के लिए उनके दोस्त नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए प्रवेश कर रहे हैं। क्वारंटाइन सेंटरों में सुरक्षा कर्मियों की तैनाती न होने के कारण नियमों तो लगातार ताक में रखा जा रहा है।

नोडल अधिकारियों और ग्राम प्रधानों से क्वारंटाइन सेंटरों में नियमों का उल्लंघन कर रहे लोगों के नाम प्रशासन को देने के निर्देश दिए गए है, ताकि उनके खिलाफ कार्रवाई की जा सके। सेंटरों में अनावश्यक बाहर से प्रवेश कर रहे लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई करने को कहा गया है। क्वारंटाइन सेंटरों में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।