उम्मीदें

चंपावत आंचल डेयरी का 7.5 करोड़ रुपए से होगा कायाकल्प, रोजाना 25 हजार लीटर दूध का होगा उत्पादन

हल्द्वानी: पहाड़ के सबसे ज्यादा दूध उत्पादन करने वाली चंपावत आंचल डेयरी का जल्द कायाकल्प होने जा रहा है. साढ़े 7 करोड़ के बजट से इस डेयरी को आधुनिक तरीके से तैयार किया जाएगा. जिससे दूध उत्पादन के क्षेत्र में चंपावत जिले को पहचान मिल सके और दुग्ध उत्पादक और ज्यादा दूध का उत्पादन कर सकें. इससे उनकी आमदनी भी बढ़ेगी.

उत्तराखंड डेयरी कोऑपरेटिव फेडरेशन के एमडी जगदीप अरोड़ा ने बताया कि चंपावत की आंचल डेयरी पहाड़ की सबसे ज्यादा दूध उत्पादन करने वाली डेयरी है. वहां के दूध की क्वालिटी भी बेहतर होती है. ऐसे में चंपावत डेयरी का कायाकल्प करते हुए उसकी क्षमता को बढ़ाया जा रहा है. उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में वहां 10,000 लीटर रोजाना दूध उत्पादन की क्षमता है. जिसे बढ़ाकर 25,000 लीटर किया जा रहा है. जिससे दूध उत्पादन के क्षेत्र में जुड़े लोगों को फायदा हो सके.

उन्होंने बताया कि चंपावत आंचल डेयरी के दूध को और आगे मार्केट देने पर भी जो दिया जा रहा है. चंपावत डेयरी के कायाकल्प के लिए शासन से 7.5 करोड़ रुपए का बजट मिला है. डेयरी की क्षमता बढ़ जाने से चंपावत जिले के दूध उत्पादक और ज्यादा मात्रा में दूध का उत्पादन कर सकेंगे. जिससे उत्पादकों की आय में वृद्धि के साथ-साथ आंचल डेयरी को भी मुनाफा पहुंचेगा.

Leave a Response