देश/प्रदेश

दिल्ली में देवभूमि उत्तराखंड कल्याण समिति का सम्मान समारोह का आयोजन

सी एम पपनैं

नई दिल्ली : दिल्ली पुलिस मे कार्यरत उत्तराखंडी पुलिस परिवार सदस्यों द्वारा गठित ‘देव भूमि उत्तराखंड कल्याण समिति’ के सौजन्य से तालकटोरा इंडोर स्टेडियम मे 12 नवंबर की सांय भव्य रंगारंग सांस्कृतिक संध्या एवं ‘उत्तराखंड गौरव सम्मान’ का आयोजन मुख्य अतिथि भारतीय थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत की उपस्थिति मे सम्पन्न हुआ।

आयोजित सांस्कृतिक सांझ के अन्य गणमान्य अतिथियो मे एयर इंडिया सीएमडी अश्विनी लोहानी, ले.जनरल अनिल भट्ट, भारतीय कोस्टगार्ड के एडीजी कृपा राम नोटियाल, आईपीएस डी पी वर्मा, आईपीएस अवकाश प्राप्त दिनेश भट्ट, भारतीय कोस्टगार्ड डीआईजी कैलास नेगी, राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा, एसीपी राम सिंह रावत, एसीपी मनोज पंत, एसीपी सजवान, पूर्व प्रमुख भारतीय कोस्टगार्ड राजेंद्र सिंह, समाजसेवी नरेंद्र लड़वाल, गजेंद्र सिंह रावत, डी आर गुप्ता, संजय शर्मा दरमोडा, आर पी कोटनाला, अमिताभ रावत, बिट्टू उप्रेती तथा डॉ विनोद बछेती मुख्य थे।

थल सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत के सानिध्य मे गणमान्य अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन की रश्म अदायगी के बाद आयोजको द्वारा मुख्य अतिथि के साथ-साथ अन्य सभी गणमान्य अतिथियो को ‘उत्तराखंड गौरव सम्मान’ से नवाजा गया। सम्मान स्वरूप स्मृति चिन्ह व पौधे भेट किए गए।विगत सात दशकों से दिल्ली पुलिस मे कार्यरत उत्तराखंड के प्रबुद्ध पुलिस कर्मियों का सपना था, एक दिन अपने पुलिस परिवारों के कल्याण तथा उत्तराखंड की स्मृद्ध पारंपरिक लोक संस्कृति, बोली-भाषा, रहन-सहन, खान-पान इत्यादि के संरक्षण व संवर्धन हेतु एक संस्था का गठन कर उक्त परिपाठियो पर दिल्ली प्रवास मे कार्य करे। संस्था के कार्यो के बल आज की पीढ़ी को अपनी स्मृद्ध पारंपरिक परम्पराओ से अवगत करा, भविष्य की पीढ़ी के लिए उसका संरक्षण व संवर्धन हेतु प्रयास करे।

निरंतर कटिबद्ध रहने व 2015 से व्हाट्सप ग्रुप से शुरुआत करने के बाद इस वर्ष 2019 मे पुलिस कर्मियों का सपना दिल्ली पुलिस मे एसीपी रहे अवकाश प्राप्त सतीश शर्मा के संरक्षण तथा गठित संस्था अध्यक्षा आशा पत्नी राम प्रसाद भट्ट, गुड्डी पत्नी रमेश सिंह जयाडा, मधु पत्नी दिनेश सिंह पटवाल, सीमा नेगी पत्नी विक्रम सिंह नेगी के साथ-साथ माया रावत, बसंत बल्लभ जोशी, देवकी नंदन बिष्ट, राजेंद्र जोशी, विजय असवाली, भैरव पंत, मोहन बिष्ट, ललित भट्ट, दिनेश नेगी, पदम रतूड़ी इत्यादि सहयोगियो की कुशल कार्यक्षमता, लगन, मेहनत व निष्ठा से यह सपना साकार हुआ।

तालकटोरा इंडोर स्टेडियम मे पहला रंगारंग सांझ का भव्य आयोजन गठित संस्था ‘देवभूमि उत्तराखंड कल्याण समिति’ द्वारा दिल्ली पुलिस कर्मियों के अनगिनत परिवारों के अपार सहयोग से आयोजित किया गया। कार्यक्रम योजना सफल साबित हुई।

वर्तमान मे दिल्ली पुलिस मे कार्यरत अस्सी हजार पुलिस कर्मियों मे करीब आठ हजार पुलिसकर्मी उत्तराखंड मूल के हैं। जिनमे करीब चालीस डिप्टी व असिस्टेंट कमिश्नर पदों तथा एक सौ पचास के करीब इंस्पेक्टर पदों पर पदासीन हैं। आशानुसार अवकाश प्राप्ति के बाद सेवा निवर्त पुलिस कर्मी गठित संस्था की सदस्यता ग्रहण कर, दिल्ली प्रवास मे उत्तराखंड की अन्य प्रवासी संस्थाओं के साथ तालमेल बिठा, उत्तराखंड की सामाजिक व सांस्कृतिक नींव को मजबूत दिशा प्रदान करने का काम कर सकेंगे। शुरुआती दौर मे ही गठित इस संस्था से उत्तराखंड के करीब आठ सौ दिल्ली पुलिस से संबद्ध रहे कर्मी जुड़ चुके हैं। जिनके जुड़ने का क्रम निरंतर बढ़ता जा रहा है।

गठित संस्था द्वारा आयोजित सांस्कृतिक सांझ मे पुलिस कर्मियों, उनके परिवार के सदस्यों, बच्चों तथा उत्तराखंड के सु-विख्यात लोकगायकों द्वारा उत्तराखंड के लोकनृत्य, गीत, संगीत का भव्य रंगारंग कार्यक्रम करीब पांच घन्टे तक इंडोर स्टेडियम में मौजूद करीब चार हजार पुलिस कर्मियों के प्रबुद्ध परिवारों की मौजूदगी मे सम्पन्न हुआ।
भव्य आयोजित कार्यक्रम का मंच संचालन पुलिस इन्स्पेक्टर पदमिन्दर रावत व कौशल पांडे द्वारा तथा आमंत्रित लोकगायकों के कार्यक्रम का मंच संचालन पन्नू गुसाई द्वारा बखूबी संचालित किया गया।

कयास लगाया जा सकता है, दिल्ली प्रवास मे उत्तराखंड के पुलिस कर्मियो द्वारा गठित संस्था ‘देवभूमि उत्तराखंड कल्याण समिति’ के गठन का उद्देश्य सिर्फ पुलिस परिवारों के कल्याण तक ही सीमित न रह कर, सार्थक, कल्याणकारी तथा दूरदर्शी सोच के साथ प्रवासी जनसरोकारों से जुडी अन्य प्रवासी संस्थाओ के उत्थान व उनके संवर्धन हेतु भी होगा। जनसरोकारों से जुडी संस्थाओ का मिलजुल कर व कटिबद्ध होकर काम करना न सिर्फ दिल्ली प्रवास मे निवासरत प्रवासियों के भविष्य के लिए हितकर होगा, उत्तराखंड की लोकसंस्कृति, बोली-भाषा, साहित्य, शिक्षा, समाज सेवा इत्यादि के संरक्षण व संवर्धन हेतु भी महत्वपूर्ण होगा।

विशेष