Latest Newsराष्ट्रीय

CBI ने 40 स्थानों पर तलाशी के दौरान जब्त किए 3.21 करोड़ रुपये

नई दिल्ली, एएनआइ। गृह मंत्रालय द्वारा एनजीओ पर कार्रवाई में केंद्रीय जांच ब्यूरो ने एनजीओ, बिचौलियों और संघ के खिलाफ 40 स्थानों पर की गई तलाशी के दौरान 14 लोगों को गिरफ्तार किया और 3.21 करोड़ रुपये नकद बरामद किए। गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कथित तौर पर विदेशी चंदा (विनियमन) अधिनियम के उल्लंघन में का आरोप लगाया है।

मंत्रालय की एक शिकायत पर गृह मंत्रालय के एफसीआरए डिवीजन के सात अधिकारियों और एनआईसी, बिचौलियों और एनजीओ प्रतिनिधियों सहित 36 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया, जिसके बाद सीबीआई ने मंगलवार को देश भर में 40 स्थानों पर तलाशी ली।

सीबीआई अधिकारी ने बताया ‘इस कार्रवाई में दिल्ली, राजस्थान, चेन्नई, हैदराबाद, मैसूर में 40 स्थानों पर तलाशी ले रही है ताकि गैर सरकारी संगठनों, बिचौलियों और गृह मंत्रालय के एफसीआरए डिवीजन के लोक सेवकों को पकड़ा जा सके जो कथित रूप से एफसीआरए प्रावधानों का उल्लंघन कर रहे थे और रिश्वत के लिए एफसीआरए मामलों की अवैध निकासी की सुविधा प्रदान कर रहे थे।’

गृह मंत्रालय ने पिछले साल ओमिडयार को निगरानी सूची में रखा था और उसके सभी विदेशी चंदे पर रोक लगा दी गई थी। ओमिडयार नेटवर्क ओमिडयार समूह का एक हिस्सा है। यह मीडिया, डिजिटल समाज, शिक्षा, उभरती हुई तकनीक और कई अन्य क्षेत्रों में निवेश करता है।

CBI छापेमारी में इन आरोपियों के नाम शामिल 

एफआईआर में आरोपी के रूप में नामित एनजीओ (NGO) और उनके सहयोगियों की पहचान गंगा ऑर्थोपेडिक रिसर्च एंड एजुकेशन फाउंडेशन (GOREF) की ओर से वागीश, चार्टर्ड अकाउंटेंट के रूप में की गई है; एनजीओ द सोशल प्रोजेक्ट के रॉबिन देवदास, सृजन फाउंडेशन के प्रतिनिधि स्वपन मन्ना, ऐरीज़ मल्टीपर्पज सोशल सर्विस सोसाइटी के चिनप्पन पिचाई पिल्लई, सेंटर फॉर ट्राइबल एंड रूरल डेवलपमेंट ट्रस्ट के रामास्वामी रंगनाथन, सीएलसी (क्रिश्चियन लाइफ सेंटर मंत्रालयों) के अल्फ्रेड मोहंती प्रशासक, एनजीओ हार्वेस्ट इंडिया के प्रतिनिधि कठेरा सुरेश कुमार, लुंगाविरुओल ख्वाबुंग, संगठन के महासचिव रिफॉर्मेड प्रेस्बिटेरियन चर्च नॉर्थ ईस्ट इंडिया, गुवाहाटी स्थित एनजीओ नई रोशनी फाउंडेशन के अध्यक्ष और एनजीओ ओमिडयार के प्रमोटर बिष्णु मौर।

Leave a Response