राष्ट्रीय

ड्रग ट्रैफिकिंग पर CBI ने 6600 लोगो से की पूछताछ-175 हुए अरेस्ट

भारतीय जांच एजेंसियां अब दूसरे देशों में छिपे ड्रग माफियाओं पर भी शिकंजा कसने की तैयारी कर चुकी हैं. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने इंटरपोल के साथ मिलकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ड्रग टैफिकिंग के खिलाफ एक बड़ा ऑपरेशन गरुण शुरू किया है. इस ऑपरेशन में अब तक 127 केस दर्ज किए जा चुके हैं वहीं 175 की गिरफ्तारी भी की गई है. इतनी बड़ी कार्रवाई में सीबीआई ने बड़ी मात्रा में ड्रग्स बरामद किया है. सीबीआई और इंटरपोल इस ऑपरेशन के तहत ड्रग्स माफियाओं की एक्टिविटी पर नियंत्रण लाना चाहती हैं.

इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चलाया जा रहा है जिसमें इंटरपोल की अहम भूमिका है. इंटरपोल के जरिए एनसीबी और स्टेट पुलिस को भी खासी मदद मिल रही है. दरअसल जांच एजेंसी की नजर अंतरराष्ट्रीय ड्रग नेटवर्क के सिंडिकेट पर है. वह चाहती हैं कि किसी तरह इस सिंडिकेट का भंडाफोड़ किया जा सके. इसी मकसद को लेकर इतनी बड़ी कार्रवाई की जा रही है.

सीबीआई, एनसीबी और 8 राज्यों की पुलिस

सीबीआई और इंटरपोल के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चलाया जा रहे ऑपरेशन में सीबीआई और एनसीबी तो शामिल हैं ही. साथ ही इसमें देश के 8 राज्यों की पुलिस भी अहम भूमिका निभा रही है. छोटी से छोटी लीड पर राज्यों की पुलिस अपराधियों तक पहुंच रही है. इन राज्यों में पंजाब, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली और मणिपुर शामिल हैं. इन राज्यों में सबसे ज्यादा ड्रग माफिया एक्टिव हैं. किसी राज्य में ड्रग्स की ज्यादा खपत है तो किसी राज्य से इसकी खरीद-फरोख्त की जाती है.

6600 लोगों से की गई पूछताछ

सीबीआई, एनसीबी और इंटरपोल के इस ऑपरेशन में अब तक कुल 6600 लोगों से पूछताछ की जा चुकी है. ऑपरेशन के तहत एजेंसियों ने पूछताछ और सबूतों के आधार पर 127 नए केस दर्ज किए हैं .इतना ही इन्होंने 175 ड्रग तस्करों को भी गिफ्तार किया गया है. फिलहाल मामले में सीबीआई इंटरनेशनल लिंक्स खंगाल रही है. गिरफ्तार तस्करों से लगाता पूछताछ जारी है. इनसे पूछताछ करके जांच एजेंसिया इस गिरोह के माफियाओं तक पहुंचना चाह रही है.

 

Leave a Response