देश/प्रदेश

प्रशांत किशोर के खिलाफ 10 करोड़ के डैमेज शूट का मुकदमा, कंटेंट चोरी का है आरोप

पटना. जदयू (JDU) के पूर्व नेता और राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) के खिलाफ 10 करोड़ के डैमेज शूट का मुकदमा (Case) दर्ज किया गया है. प्रशांत किशोर के खिलाफ ये मुकदमा पटना के सिविल कोर्ट (Patna Civil Court) में दर्ज हुआ है. उन पर मुकदमा मोतिहारी के रहने वाले शाश्वत गौतम नामक शख्स ने किया है. प्रशांत किशोर के खिलाफ यह मुकदमा 25 जनवरी को हुआ है इस मामले की जानकारी शाश्वत गौतम के अधिवक्ता विशाल ठाकुर और दिनकर दुबे ने दी.

सुनवाई की तिथि निर्धारित नहीं

जानकारी के मुताबिक इस मामले में सब जज बन के कोर्ट में सुनवाई होगी लेकिन इसको लेकर अभी कोई तिथि निर्धारित नहीं की गई है मालूम हो कि प्रशांत किशोर के खिलाफ पटना के पाटलिपुत्र थाने में एफआईआर दर्ज कराया गया था. मोतिहारी के रहने वाले शाश्वत गौतम ने यह शिकायत दर्ज कराई थी. शिकायतकर्ता ने पीके पर ‘बात बिहार की’ कंटेंट के नकल का आरोप लगाया है.

क्या है पूरा मामला

दरअसल, आरोपों के मुताबिक शाश्वत गौतम नाम के युवक ने ‘बिहार की बात’ नाम का एक प्रोजेक्ट बनाया था. इस प्रोजेक्ट को आने वाले दिनों में लॉन्च करने की बात हो रही थी. इस बीच ओसामा नाम के शख्स ने शाश्वत के यहां से इस्तीफा दे दिया और ‘बिहार की बात’ का सारा कंटेंट उसने प्रशांत किशोर (PK) को दे दिया. ऐसी जानकारी मिल रही है कि शिकायतकर्ता शाश्वत गौतम पूर्व में कांग्रेस के लिए चुनाव के दौरान काम कर चुके है.

पॉलीटिकल वर्कर बनकर काम करने का दावाबता दें कि नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू का हिस्सा रहे प्रशांत किशोर की राहें अब अलग हो चुकी हैं. पिछले महीने सीएम नीतीश ने उन्हें जेडीयू ने बर्खास्त कर दिया था. पीके अब बिहार में राजनीतिक कार्यकर्ता के तौर पर काम करने की बात कह रहे हैं. चुनावी रणनीतिकार के तौर पर अलग-अलग राजनीतिक दलों के साथ काम कर चुके प्रशांत किशोर प्रदेश के युवाओं को जोड़ने के लिए ‘बात बिहार की’ नाम से एक कैंपेन की शुरुआत की है.

10 लाख युवाओं को जोड़ने की है बात

प्रशांत किशोर ने इस कैंपेन के तहत 10 लाख युवाओं को जोड़ने की बात कही है. इस मामले में प्रशांत किशोर ने भी सफाई दी थी और गिरी हुई हरकत बताया था कि ने कहा था कि उनके खिलाफ निराधार आरोप लगाकर जा रहे हैं. वे पुलिस से उम्मीद करेंगे कि इस पूरे मामले की जल्द जांच करे और सच्चाई को जनता के सामने लाये.

विशेष