देश/प्रदेश

उत्तराखंड में वित्तीय वर्ष 2020-21 को लेकर सदन में पास हुआ 53 हजार करोड़ रुपये का बजट

देहरादूनः उत्तराखंड में वित्तीय वर्ष 2020-21 को लेकर आज सदन में 53 हजार करोड़ रुपए पास हो गया हैं. जिसे बिना चर्चा के ही पास कर दिया गया. जिसके बाद सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया. वहीं सदन में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कोरोना वायरस को लेकर सरकार की तैयारियों के बारे में भी जानकारी दी.

देश दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस को देखते हुए सरकार लगातार ऐतिहात बरत रही है. इसी क्रम में उत्तराखंड विधानसभा सत्र के दौरान सदन में जाने से पहले सारे मंत्रियों की स्क्रीनिंग की गई. मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिह रावत, विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद्र अग्रवाल,संसदीय कार्य मंत्री मदन कौशिक, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश समेत सभी तमाम विधायक मास्क पहनकर सदन गए.वहीं बजट पारित होने के बाद सदन की कार्रवाई अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई है.

बुधवार को विधानसभा सत्र के सदन की कार्रवाई के दौरान उत्तराखंड विनियोग विधेयक 2020 को सर्वसम्मति से पारित किया गया. हालांकि आगामी वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट को सदन में पास कर दिया गया है. वहीं सदन के भीतर आगामी वित्तीय वर्ष के लिए 53,526.97 करोड़ में से 43 हजार 866 करोड़ 11 लाख 89 हजार रुपए का बजट सर्वसम्मति से पारित किया गया. बाकी बचे 9 हजार 660 करोड़ 85 लाख 11 हजार रुपए को पास करने के लिए सर्वसम्मति की जरूरत नहीं होती हैं. सदन के भीतर 9 हजार 660 करोड़ 85 लाख 11 हजार रुपए को सर्वसम्मति से पारित करने की जरूरत इसलिए नहीं पड़ी क्योंकि इस रकम में से करीब 6000 करोड़ रुपए, राज्य पर चल रहे कर्ज के ब्याज के रूप में जमा किया जाएगा.

साथ ही करीब 3000 करोड़ रुपए राज्यपाल समेत अन्य लोगों की सैलरी के लिए होता है. ऐसे में सदन के भीतर इस बजट को सर्वसम्मति से पारित करने की जरूरत नहीं होती है. बुधवार को सदन की कार्यवाही के दौरान सदन के भीतर 43 हज़ार 866 करोड़ 11 लाख 89 हज़ार का बजट पारित किया गया. यही नहीं सदन के भीतर कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के संज्ञान में लाया गया.साथ ही राज्य सरकार कोरोना से लड़ने के लिए प्रदेश में क्या कुछ कर रही है इससे भी अवगत कराया गया. वहीं संसदीय कार्य मंत्री मदन कौशिक ने कहा कि वर्तमान में आगामी वित्तिय वर्ष के लिए बजट की आवश्यकता थी जिसे पास कराया गया है.

विशेष