राष्ट्रीय

BSNL के 13,567 मोबाइल टॉवर बेचकर 4,000 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य

दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव कह रहे हैं कि भारत संचार निगम लिमिटेड यानी बीएसएनएल अक्टूबर महीने में अपनी 5G सर्विस शुरू कर देगी. यानी दिवाली पर आपको 5G का तोहफा मिलेगा.लेकिन वहीं दूसरी ओर खबर ये आ रही है कि बीएसएनएल अपने 10,000 मोबाइल टॉवर्स बेचने जा रही है. ऐसे में ये बात हजम नहीं हो रही है कि अपने मोबाइल टॉवर्स बेचकर कैसे बीएसएनएल बेहतर सेवा देगी और अन्य कंपनियों से प्रतिस्पर्धा करेगी. केंद्र सरकार ने नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन के तहत बीएसएनएल को 2025 तक कुल 13,567 मोबाइल टॉवर बेचकर 4,000 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य दिया है. इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए बीएसएनएल ने पहले चरण में 10,000 टॉवर्स को बेचने की योजना बनाई है. इसके लिए KPMG को फाइनेंशियल एडवाइजर के तौर पर नियुक्त किया गया है.

क्या है बीएसएनएल की योजना

BSNL अपने केवल वही टॉवर बेचेगी, जो रिलायंस जियो और एयरटेल जैसे थर्ड पार्टी टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर के साथ को-लोकेशन अरेजमेंट के तहत हैं. दिल्ली और मुंबई को छोड़कर देश के हर कोने में मोबाइल सेवा देने वाली BSNL के पास कुल 68,000 टेलीकॉम टॉवर्स हैं. इनमें से 70 फीसदी टॉवर्स फाइबर केबल से जुड़े हुए हैं और 4जी व 5जी सर्विस शुरू करने के लिए एकदम तैयार हैं. देश में BSNL ही अकेली ऐसी टेलीकॉम कंपनी है, जिसके पास इतना बड़ा टॉवर नेटवर्क है. नेशनल मोनेटाइजेशन पाइपलाइन के तहत BSNL को 13,567 और MTNL को 1350 टॉवर्स की बिक्री 2025 तक चरणबद्ध तरीके से करना है. दोनों सरकारी कंपनियों को कुल मिलाकर 14,917 टेलीकॉम टॉवर्स बेचने हैं.

BSNL को घाटे से उबारने के लिए सरकार इसके लिए टेलीफोनी सर्विसेस को बढ़ावा देना चाहती है….. इसके लिए उसने BSNL के साथ भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क का विलय करने की योजना बनाई है…. ये दोनों कंपनियां मिलकर देश के ग्रामीण इलाकों में टेलीफोन सेवा को पहुंचाएंगी और इंटरनेट सेवाओं का विस्तार करेंगी…

Leave a Response