नेतागिरी

चारधाम यात्रा में मौत के आंकड़ों पर भाजपा प्रवक्ता शादाब शम्स का बेतुका बयान

देहरादून: चारधाम यात्रा में हो रही यात्रियों की मौत और अव्यवस्थाओं के बीच भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस में जुबानी जंग तेज हो गई है. मामले में भाजपा का कहना है कि चारधाम यात्रा में उमड़ रही श्रद्धालुओं की भीड़ कांग्रेस के पेट मे दर्द कर रही है. वहीं, कांग्रेस का कहना है कि भाजपा अपनी असफलताओं को छुपा रही है. इसी बीच भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता के इस बयान पर कांग्रेस हमलावर हो गई है. भाजपा प्रवक्ता ने कहा चारधाम यात्रा में जो यात्री मर रहे हैं, वह पोस्ट कोविड मरीज हैं. साथ ही चारधाम यात्रा में मरने वाले यात्री इसे मोक्ष का मार्ग समझते हैं. जिस पर कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि अगर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता के इस बयान पर एक्शन नहीं लेती तो यह समझा जाएगा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की भी इस बयान में सहमति है.

साथ ही शम्स ने कहा कि यह पहाड़ है और जो चारधाम यात्रा में यात्री मर रहे हैं, वह पोस्ट कोविड मरीज हैं. साथ ही कई यात्री सांस आदि की बीमारी से ग्रसित हैं. कई यात्री स्वयं को स्वस्थ बताकर यात्रा के दौरान पहाड़ी मार्गों पर पैदल चल रहे हैं, वह सोचते हैं कि अगर यात्रा मार्ग पर मृत्यु हो गई तो उन्हें मोक्ष की प्रप्ति होगी. लोगों की चारधाम के प्रति सच्ची आस्था है.

शादाब शम्स ने कहा प्रदेश में यात्रियों का रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है. साथ ही अब प्रदेश के लोकल यात्रियों का भी रजिस्ट्रेशन हो रहा है. यात्रा अपने चरम पर सुव्यवस्थित है. अगर कांग्रेस के पेट मे दर्द हो रहा है तो उन्हें पुदीना खा लेना चाहिए.

वहीं, भाजपा प्रदेश प्रवक्ता के बयान पर हमलावर कांग्रेस की प्रदेश प्रवक्ता प्रतिमा सिंह ने कहा भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का मानसिक संतुलन बिगड़ चुका है. अपनी सरकार की विफलताओं को छिपाने के लिए वे अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं. चारधाम यात्रा में मोक्ष का मतलब मृत्यु नहीं है, बल्कि श्रद्धालु धाम में पहुंचकर अपने जीवन की गलतियों का प्रयाश्चित कर सुखद जीवन की कामना करता है. प्रतिमा सिंह ने कहा भाजपा प्रदेश प्रवक्ता के इस बेतुके बयान पर एक्शन होना चाहिए. अगर ऐसा नहीं होता तो इस बयान पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की सहमति समझी जानी चाहिए.

Leave a Response