नेतागिरी

BJP ने बनाया ट्रिपल लेयर एक्शन प्लान, सरकार बनाने को फिल्डिंग में जुटे नेता

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव (Uttarakhand elections) के परिणाम दस मार्च को घोषित होंगे. वहीं सभी सियासी दल राज्य में सरकार बनाने का दावा कर रहे हैं. जबकि राज्य की सत्ता पर काबिज बीजेपी (BJP) भी सरकार बनाने के दावे कर रही है और अभी से चुनाव परिणामों को लेकर गहन मंथन में जुट गई है. बीजेपी इस दिशा में रणनीति तैयार कर रही है कि अगर उसे बहुमत नहीं मिला तो वह किसका समर्थन लेकर सरकार बनाएगी. लिहाजा बीजेपी ने इसके लिए ट्रिपल लेयर प्लान तैयार किया है. फिलहाल बीजेपी आलाकमान राज्य के नेताओं के संपर्क में है और पिछले दिनों ही पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक की दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ मुलाकात की है. वहीं सीएम धामी भी दिल्ली में पार्टी के बड़े नेताओं से मुलाकात कर चुके हैं.

दरअसल राज्य में बीजेपी के नेता दावे कर रहे हैं कि उन्हें पूर्ण बहुमत मिलेगा. लेकिन ये दावे पार्टी स्तर पर ही किए जा रहे हैं. वहीं कांग्रेस भी इसी तरह के दावे कर रही है. कांग्रेस का कहना है कि वह राज्य में पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बना रही है. जबकि कांग्रेस के बड़े नेता मानते हैं कि राज्य में जनादेश किसे मिलेगा. ये कहना अभी मुश्किल है. क्योंकि मतदाता इस बार चुप्पी साधे हुए है. दरअसल 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 70 में से 57 सीटें जीतकर ऐतिहासिक बहुमत हासिल किया था. वहीं बीजेपी आंकलन कर रही है कि अगर उसका वोट फीसदी गिरा भी तो कितनी सीटों का उसे नुकसान होगा. वहीं कांग्रेस को इस बात की उम्मीद है कि राज्य की जनता ने बीजेपी सरकार विरोधी वोट दिया है और ये वोट उसे मिला है.

बीजेपी ने बनाया प्लान

फिलहाल बीजेपी तीन प्लान बनाकर तैयारी कर रही है. इसके तहत अगर वह पूर्ण बहुमत मेंनहीं आती है तो उसे कितने विधायकों की जरूरत होगी. दूसरे प्लान के तहत पार्टी को बहुमत ना मिलने की स्थिति में अगर कुछ विधायकों की जरूरत होगी तो निर्दलीय और अन्य छोटे के दलों का समर्थन उसे कैसे मिलेगा. अगर ज्यादा विधायकों की जरूरत होती है तो ये विधायक कहां से आएंगे. फिलहाल बीजेपी की नजर कांग्रेस के कुछ नेताओं पर भी है. जिनके बारे में कहा जा रहा है कि कांग्रेस के कमजोर होने पर वह बीजेपी की तरफ जा सकते हैं.

सरकार बनाने के लिए बागियों का समर्थन ले सकती है बीजेपी

वहीं पार्टी के नेताओं का कहना है कि जिन सीटों पर पार्टी के बागी चुनाव लड़ रहे हैं अगर वह चुनाव जीतते हैं और पार्टी को समर्थन की जरूरत होती है तो उनका समर्थन लिया जाएगा. क्योंकि वह पार्टी के पुराने कार्यकर्ता हैं और उनकी नाराजगी दूर की जाएगी. लिहाजा कहा जा रहा है कि चुनाव जीतने वाले अपने बागियों के लिए पार्टी रेड कारपेट बिछाएगी और उनका स्वागत करेगी. वहीं अन्य दलों के चुनाव जीतने वाले बागियों के अलावा निर्दलीयों पर भी बीजेपी नजर रख रही है.

Leave a Response