राष्ट्रीय

बर्दवान में मोतियाबिंद सर्जरी में बड़ी लापरवाही, 3 की आंखों की गई रोशनी

लंदन एजेंसी। NASA’s Dart Mission: अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा (NASA) के डबल क्षुद्रग्रह पुनर्निर्देशन परीक्षण (DART) अंतरिक्ष यान 26 सितंबर को 24,000 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से एक क्षुद्रग्रह (Asteroid) से टकराएगा। डार्ट को नवंबर 2021 में पृथ्वी से लान्च किया गया था। यह एक बस के आकार जैसा है। इसे एक खतरनाक क्षुद्रग्रह से पृथ्वी की रक्षा करने की हमारी क्षमता का परीक्षण करने और साबित करने के लिए बनाया गया था।

पृथ्वी के करीब है क्षुद्रग्रह

11 मिलियन किलोमीटर दूर से किसी लक्ष्य पर सीधा प्रहार करना आसान नहीं है। क्षुद्रग्रह को वास्तव में नासा द्वारा इसलिए चुना गया था क्योंकि यह अपेक्षाकृत पृथ्वी के करीब है। यह इंजीनियरों को प्रभाव से पहले अंतिम चरण में खुद को संचालित करने के लिए अंतरिक्ष यान की क्षमता का परीक्षण करने का अवसर देगा, क्योंकि यह स्वायत्त रूप से दुर्घटनाग्रस्त हो जाएगा।

डिमोर्फोस क्या है?

लक्ष्य क्षुद्रग्रह को डिमोर्फोस कहा जाता है। यह 163 मीटर व्यास वाला एक पिंड है जो डिडिमोस नामक 780 मीटर चौड़े क्षुद्रग्रह की परिक्रमा कर रहा है। ‘बाइनरी क्षुद्रग्रह प्रणाली’ इसलिए चुना गया क्योंकि डिमोर्फोस डिडिमोस के चारों ओर कक्षा में है, जिससे इसकी कक्षा में परिणामी परिवर्तन के कारण प्रभाव के परिणाम को मापना आसान हो जाता है। हालांकि, डिमोर्फोस सिस्टम से वर्तमान में पृथ्वी के लिए कोई जोखिम नहीं है।

उपयोग की जा रही तकनीक को ‘गतिज प्रभाव’ (Kinetic Impact) कहा जाता है, जो क्षुद्रग्रह की कक्षा में दुर्घटनाग्रस्त होकर उसकी कक्षा को बदल देगा। एक छोटा सा विक्षेपण (Deflection) यह साबित करने के लिए पर्याप्त हो सकता है कि यह तकनीक वास्तव में पृथ्वी के साथ टकराव पथ पर क्षुद्रग्रह के पथ को बदल सकती है।

 

Leave a Response