देश/प्रदेश

सड़क समस्या-गिरेछीना मोटर मार्ग पर दरका पहाड़, आवागमन ठप

बागेश्वर: गिरेछीना मोटर मार्ग पर फिर पहाड़ दरक गया है। जिससे सड़क आवागमन के लिए पूरी तरह बंद हो गई है। किमी 14 के समीप पहाड़ी दरकने से मार्ग जानलेवा बना हुआ है। करीब छह माह से ग्रामीणों की दिक्कतें बरकरार हैं।

बागेश्वर-गिरेछिना-सोमेश्वर मोटर मार्ग पर अचानक पहाड़ दरकने लगा। हालांकि वाहनों की आवाजाही नहीं होने से बड़ी घटना टल गई है। तीन किमी पर द्वारिकाछीना के समीप पिछले छह माह से पहाड़ी दरक रही है। जिसका मलबा और पत्थर नीचे मिहिनिया-भटोली मार्ग पर गिरने से वह भी बंद है। लोग कई किमी पैदल चलकर जिला मुख्यालय पहुंच रहे हैं। स्थानीय निवासी कुंदन सिंह परिहार, नरेश उप्रेती, हरीश मनराल आदि ने बताया कि सड़क पिछले छह माह से बंद हो रही है। जिससे वाहनों की आवाजाही प्रभावित हो रही है। जिला प्रशासन को कई बार वैकल्पिक व्यवस्था करने को कहा गया, लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो सकी है। उन्होंने कहा कि सड़क बंद होने से जौलकांडे, लेटी, शीशाखानी, छनापानी, डोबा, चौहाना, क्वैराली, चामी, सात, रतबे समेत एक दर्जन से अधिक गांवों का आवागमन ठप हो गया है।

शामा में दरकी पहाड़ी

कपकोट तहसील के शामा क्षेत्र में तेजम मोटर मार्ग पर भी पहाड़ी से भूस्खलन हो रहा है। जिससे आवागमन पूरी तरह ठप हो गया है। लोनिवि कपकोट जेसीबी मशीन से मार्ग सुचारू कर रहा है। बारिश के कारण भूस्खलन का सिलसिला इस बार मार्च में ही तेज हो गया है। बरसात में इन सड़कों पर वाहन चला पाना खतरे की घंटी होगी।

बंद सड़कों को खोलने का काम शुरू कर दिया गया है। लोनिवि जेसीबी मशीनों के जरिये सड़क से मलबा आदि हट रहा है। जल्द सड़कों को आवागमन के लिए सुचारू किया जाएगा।

-शिखा सुयाल, जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी, बागेश्वर

विशेष