बागेश्वर

पंचायत भवन में क्वारंटाइन पांच माह की गर्भवती महिला को है डाक्टरों की दरकार

बागेश्वर: कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव और रोकथाम के लिए दिल्ली से आया दंपती ग्राम पंचायत भवन में क्वारंटाइन किए गए हैं। पांच माह की गर्भवती महिला अलग कमरे में रह रही है। वह दो दिन से यहां है और उसे डाक्टरों की दरकार है। जिससे आने वाले नवजात के लिए दंपती काफी परेशान है। गत दिवस दिल्ली से आए दंपती को पुलिस ने सभी जांच के बाद ग्राम पंचायत भवन कराला पालड़ी में क्वारंटाइन किया है।

एक कमरे में गर्भवती महिला नेहा और किचन में उनके पति जीवन सिंह करायत रह रहे हैं। गर्भवती को इस बीच चक्कर भी आ रहे हैं, लेकिन यहां एएनएम, आशा और डाक्टर नहीं हैं। जिससे दंपती काफी परेशानी में हैं और नवजात को लेकर भी उनके मन में कई सवाल पैदा हो रहे हैं। गांव प्रधान मोहन सिंह करायत ने बताया कि ग्राम पंचायत भवन में दंपती के अलावा सात अन्य ग्रामीण भी क्वारंटाइन हैं। सात लोगों को एक हॉल में रखा गया है। एक शौचालय है और सभी बारी-बारी उसका उपयोग कर रहे हैं।

पानी कभी-कभी आता है। पंचायत घर में एक हॉल, एक कमरा और एक किचन है। क्वारंटाइन किए गए लोगों का भोजन, बिस्तर आदि घर से आ रहा है। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. महेंद्र सिंह करायत के बेटे फते सिंह ने जिलाधिकारी से गर्भवती महिला के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए डॉक्टरों की टीम भेजने की मांग की है।