देश/प्रदेश

बागेश्वर में कूड़े पर बवाल… ट्रेंचिंग ग्राउंड के विरोध में पंचायत प्रतिनिधियों ने दिए इस्तीफ़े

बागेश्वर: उत्तराखंड में कूड़ा निस्तारण सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है. अब बागेश्वर में ट्रेंचिंग ग्राउंड को लेकर बवाल शुरु हो गया है. दरअसल हाईकोर्ट के आदेश के बाद ट्रेंचिंग ग्राउंड बनाने के लिए काम कर रहे ज़िला प्रशासन ने गरुड़ क्षेत्र में तीन गांवों की जिस जगह को ट्रेंचिंग ग्राउंड के लिए चुनाव था ग्रामीणों के दबाव के बाद वहां कूड़ा नहीं डाला जा सका. इसके बाद एक और गांव के अपना कूड़ा डालने के लिए प्रस्तावित जगह को ही बागेश्वर बाज़ार के कूड़ा डालने के लिए ट्रैंचिंग ग्राउंड बनाने का प्रस्ताव पारित कर दिया गया. इसके विरोध क्षेत्र के पंचायत प्रतिनिधियों ने इस्तीफ़े दे दिए हैं.

ज़िला पंचायत में ट्रेंचिंग ग्राउंड का विरोध करने पहुंचे ग्रामीणों ने कहा कि अदालत ने बाजार का कूड़ा निस्तारित करने के लिए पांच ग्राम पंचायतों गढ़सेर, सिल्ली, पाये, नौघर और फुलवाड़ी गूंठ में भूमि चयन करने का आदेश दिया था. लेकिन प्रशासन खडेरिया में कूड़ा निस्तारण केंद्र बनाने की बात कर रहा है.

आक्रोशित ग्रामीणों ने कलक्ट्रेट में प्रदर्शन कर शासन-प्रशासन के खिलाफ नारेबाज़ी की. उन्होंने कहा कि अगर खडेरिया में जबरन कूड़ा निस्तारण केंद्र बनाया गया तो वे चुप नहीं बैठेंगे. कुछ दिन पहले जन सुनवाई में भी दर्शानी के ग्रामीण जिला मुख्यालय पहुंचे थे ज़िलाधिकारी कार्यालय परिसर में उन्होंने नारेबाज़ी कर प्रदर्शन किया था.

एडीएम को ज्ञापन सौंपकर ग्रामीणों ने कहा कि ज़िला पंचायत का फ़ैसला अदालत और जनभावनाओं के विपरीत है. उन्होंने कहा ग्रामीणों ने खडेरिया में केवल अपने गांव का कूड़ा निस्तारित करने का प्रस्ताव पास किया था और इसके लिए प्रशासन से भूमि हस्तांतरित करने की मांग की थी. प्रशासन ने अपनी समस्या हल करने के लिए ज़िला पंचायत को ज़मीन हस्तांतरित कर दी.

ग्रामीणों ने कहा कि उनके क्षेत्र में किसी भी तरह से कूड़े का निस्तारण किया गया तो वह उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंगे. प्रशासन के फ़ैसले कि विरोध में क्षेत्र पंचायत सदस्य अल्पना लोहनी और दीपा आर्य के साथ भेटा की ग्राम प्रधान मुन्नी देवी ने अपने इस्तीफ़ा सौंप दिए. उन्होंने कहा कि जब प्रशासन उनकी बात सुन ही नहीं रहा है तो पद में रहने का क्या फायदा. इसके साथ ही गांव में जबरन ट्रेंचिंग ग्राउंड बनाने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी गई.

विशेष