देश/प्रदेश

उत्तराखंड में सरकारी आदेश के खिलाफ रविवार से स्टोन क्रशरों का संचालन बंद करने का ऐलान

स्टोन क्रशर एसोसिएशन ने शनिवार को एक अहम बैठक कर रविवार से स्टोन क्रशरों का संचालन बंद करने का ऐलान कर दिया। साई स्टोन क्रशर के निदेशक मोहन पाल की अगुवाई में हुई बैठक में क्रशर मालिकों ने सरकार पर हर साल नये कानून थोपकर उत्पीड़न का आरोप लगाया।

बेतालघाट स्टोन क्रशर एसोसिएशन ने कहा कि समस्त स्टोन क्रशरों का संचालन रविवार से पूरी तरह से बंद किया जाएगा। सभी क्रशर मालिक उच्चतम न्यायालय के आदेशों का सम्मान करते हैं। उनके परिपालन में पूरा सहयोग देने को तैयार हैं। मगर शासन न्यायालय के दिए निर्देशों के अतिरिक्त हमारा उत्पीड़न कर रहा है। जो किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं होगा। उन्होंने कहा कि उन्हें मानक अनुरूप 2021 तक की पर्यावरणीय सहमति प्राप्त है। क्रशर शासनादेश मुताबिक ही स्थापित किए गए हैं, लेकिन सरकार की ओर से हर वर्ष क्रशर के मानकों को बदलकर नए शासनादेश निकाल दिए जाते हैं। बीते पांच वर्ष में कई शासनादेश जारी कर दिये हैं और उनकी आड़ में अफसर क्रशर मालिकों का उत्पीड़न कर रहे हैं, जबकि स्टोन क्रशर्स से कई बेरोजगारों को रोजगार मिलता है, इसके बावजूद क्रशरों को बंद करने की साजिश रची जा रही है। यहां ब्लॉक बेतालघाट के स्टोन क्रशर निदेशक विरेन्द्र बिष्ट, लक्ष्मण लमगड़िया, संजीव वर्मा, महेश जीना, पूर्व विधायक दान भंडारी, अजय गुप्ता, पुष्कर महरा, नवीन पंत, विक्की सिंह, करन कीर, दीपक साह, सुशील डुंगराकोटी, पंकज कंसल, जिप्पी सेठी, महेन्द्र नेगी आदि रहे।

विशेष