विविध

बागेश्वर के नायल धपोला क्षेत्र में चल रहे अवैध खनन से ग्रामीणों में आक्रोश

bageshwar-illegal-mining-in-nayal-dhapola-outrage
??????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????

बागेश्वर : नायल धपोला में हो रहे अवैध खनन को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। उन्होंने मंगलवार को जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। कहा कि यदि अवैध खनन पर रोक नहीं लगी तो वह उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे। ग्राम प्रधान सूरज सिंह कार्की के नेतृत्व में ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से शिकायत की। कहा कि नायल धपोला गांव में केदार सिंह, रमेश सिंह गढि़या, लक्ष्मण सिंह रौतेला की सोप स्टोन माइन है। माइन का विरोध गांव के लोग कर रहे हैं, लेकिन कोई सुन नहीं रहा है। 18 नवंबर 2021 से खनन शुरू हो गया है। पर्यावरण संरक्षण और प्रदूषण नियंत्रण के मानकों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। पौधारोपण भी नहीं किया जा रहा है।

लेबर के लिए शौचालय की व्यवस्था नहीं है। शिकायत के लिए कोई कार्यालय भी नहीं खोला गया है। खनन क्षेत्र से 85 मीटर की दूरी पर आवासीय भवन, चार मीटर में मुख्य रास्ता और 15 मीटर में विद्युत लाइन को भी खतरा बना हुआ है। इसके अलावा पिट दो से आवासीय भवन की दूरी 27 मीटर, सड़क 18 मीटर, विद्युत लाइन 20 मीटर, पिट तीन से तल्ला नायल के अनुसूचित जाति के आवास, पेयजल टंकी, रास्ते को खतरा पैदा हो गया है। माइन सार्वजनिक स्थानों, प्रापर्टी, आवासीय भवन, रोड आदि की दूरी केवल 100 मीटर के मानक भी पूरे नहीं कर रही है। ग्रामीणों ने कहा कि गांव ढलान पर है। 2010 से भूस्खलन हो रहा है। उन्होंने माइन की लीज निरस्त करने की मांग की। इस मौके पर जगदीश सिंह, बचे सिंह, लक्ष्मण सिंह, दीवान सिंह, चंदन सिंह, सूरज सिंह आदि मौजूद थे।

Leave a Response