देश/प्रदेश

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने उत्तराखंड सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन

देहरादून : वेतन बढ़ोत्तरी सहित कई मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने परेड ग्राउंड स्थित धरना स्थल पर अनिश्चितकालीन धरना प्रदर्शन जारी रखा। साथ ही मांगे पूरी होने तक आंदोलन को जारी रखने की चेतावनी दी।

इस मौके पर आंगनबाड़ी कार्यकत्री, सेविका और मिनी कर्मचारी संगठन की प्रदेश अध्यक्ष रेखा नेगी ने कहा कि सरकार की ओर से उन्हें आश्वासन मिला था कि वह आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की मांगों पर गंभीरता से विचार करेंगे।

एक सप्ताह होने के बाद भी धरना स्थल पर सरकार का कोई प्रतिनिधि आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों से मिलने नहीं पहुंचा। जिसे लेकर कार्यकत्रियों में भारी रोष है।

उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को न्यूनतम वेतन 18000 रुपये दिया जाए। समान कार्य के लिए समान वेतन और मोबाइल फोन की शर्त को अविलंब समाप्त किया जाए।

जब तक उनकी मांग पूरी नहीं होती वह अपना आंदोलन जारी रखेंगी। इस अवसर पर विमला गैरोला, निशा रानी, पुष्पा रानी, मना रावत, शशि पटवाल, सरोजनी, शशिबाला, रंजना नौटियाल, सुनिता, जसवंती नेगी, नजमाबानो आदि मौजूद रहे।

आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों ने प्रदर्शन के दौरान महिला सुरक्षा का मुद्दा भी उठाया। कार्यकत्रियों ने आरोप लगाते हुए कहा कि धरना स्थल को वाहन पार्किंग स्थल बनाकर रख दिया गया है।

प्रदेश अध्यक्ष रेखा नेगी ने कहा कि धरना स्थल पर देर शाम तक दर्जनों बहनें धरना देती हैं। यहां महिला सुरक्षा को लेकर कोई इंतजाम नहीं हैं।

कई लोग वाहन पार्क करके भीड़ बनाकर महिलाओं के पांडाल के आगे खड़े हो जाते हैं। इसके चलते धरने पर बैठी आंगनबाड़ी कार्यकत्र्रियां स्वयं को असुरक्षित महसूस करती हैं। उन्होंने मेयर सुनील उनियाल गामा से अनुरोध किया कि वह धरना स्थल से वाहन पार्किंग हटाई जाए।

विशेष