उत्तरकाशी

नायब तहसीलदार के खिलाफ प्रतिकूल प्रविष्टि

पुरोला (उत्तरकाशी) : सुदूरवर्ती मोरी तहसील दिवस में दुश्वारियां भारी पड़ी। बर्फबारी और पूर्व सूचना न होने के कारण सुदूरवर्ती क्षेत्रों के ग्रामीण तहसील दिवस में बेहद कम पहुंच सके।

लेकिन, निकटवर्ती क्षेत्रों के लोगों ने 55 शिकायतें दर्ज कराई। जिलाधिकारी ने मौके पर ही 48 शिकायतों का निस्तारण कराया।

फिताड़ी गर्भवती महिला की मौत के मामले में एएनएम के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने, आशा कार्यकर्ता को तत्काल हटाने के साथ मोरी के नायब तहसीलदार को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिए।

जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने कहा कि नायब तहसीलदार ने सुदूरवर्ती क्षेत्रों में सेटेलाइट फोन नहीं पहुंचाएं। अब उन्होंने पुरोला के एसडीएम को सेटेलाइट फोन सुदूरवर्ती गांवों में पहुंचाने के निर्देश दिए, जिससे ग्रामीण आपात स्थिति में प्रशासन व अन्य विभागों से मदद मांग सकें।

फिताड़ी गांव में नई आशा कार्यकर्ता का चयन करने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग और प्रधान को दिए। फिताड़ी गांव की प्रधान सुनीता देवी ने कहा कि फिताड़ी गांव में आयुर्वेदिक अस्पताल है, लेकिन, चिकित्सक नहीं हैं। एएनएम भी अस्पताल में नहीं आती है। सड़क मार्ग बंद होने के साथ-साथ संचार सेवा भी ठप है।

इस मौके पर प्रहलाद सिंह, राजपाल रावत, सुनिता देवी, सुर्ती लाल, एसडीएम सोहन सिंह सैनी, डीएफओ सुबोध काला, ईई लोनिवि धीरेंद्र कुमार, आरपी चमोली आदि मौजूद थे।

जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने कहा कि धारा गांव में दो, जखोला में तीन, लिवाड़ी में तीन और फिताड़ी गांव में तीन महिलाओं के प्रसव फरवरी में होने हैं। इसलिए स्वास्थ्य विभाग और तहसील प्रशासन इन महिलाओं की निगरानी करें।

प्रसव तिथि से पहले इन महिलाओं को अस्पताल में भर्ती कराएं। डीएम के निर्देश पर धारा गांव और फिताड़ी गांव से दो गर्भवती महिलाओं को मोरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में लाए।

70 फीसद भुगतान, काम धेला भर नहीं

जखोल निवासी गंगा सिंह रावत ने कहा कि राज्यसभा सांसद की निधि 2017-18 से जखोल तेकुणा खड्ड में 20 लाख से सीसी पुलिया का निर्माण होना है, लेकिन अभी तक निर्माण शुरू भी नहीं हुआ है, जबकि 70 फीसद भुगतान कर दिया गया है।

इस पर जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने बीडीओ को 24 घंटे में जांच करने और निर्माणदायी के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए। वहीं लिवाड़ी में विद्यालय भवन व शौचालय के क्षतिग्रस्त की रिपोर्ट एक वर्ष से न भेजने पर एवीओ का वेतन रोकने के निर्देश सीडीओ को दिए, जबकि विद्यालय भवन और शौचालय की जांच के निर्देश तहसीलदार को दिए।

मुकदमा दर्ज करने के निर्देश

जखोल निवासी गंगा सिंह रावत ने कहा कि वर्ष 2016 में एक अज्ञात व्यक्ति ने जिलाधिकारी, एसडीएम व तहसीलदार के फर्जी हस्ताक्षर किए। संबंधित हस्ताक्षर का पत्र गोविद वन्यजीव विहार में दिया।

मामला पकड़ में आया, पर अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं हुई है। इस पर डीएम ने मोरी थाने के एसओ को रिपोर्ट दर्ज कर जांच करने के निर्देश दिए।