देश/प्रदेश

मनरेगा और आजीविका के कामों की खराब स्थिति पर तीन ग्राम विकास अधिकारियों पर होगी कार्यवाही

टिहरी: मनरेगा और आजिविका के कामों की खराब स्थिति पर प्रतापनगर, नरेंद्रनगर और थौलधार के खंड विकास अधिकारियों पर तलवार लटक गई है। डीएम ने समीक्षा बैठक के दौरान इन तीनों ब्लॉक के बीडीओ को कड़ी फटकार लगाई और सीडीओ को निर्देश दिए कि अगर मार्च तक कार्यों की स्थिति नहीं सुधारी तो तीनों को प्रतिकूल प्रविष्टि दी जाए।अगर लक्ष्य प्राप्ति की स्थिति भी खराब रही तो संबंधित अधिकारियों को रिवर्ट भी किया जा सकता है।

डीएम ने जिला सभागार में मनरेगा, एनआरएलएम, आईफेड, कृषि भूमि संरक्षण, रुर्बन कलस्टर, ग्राम्य विकास अभिकरण के कार्यों की प्रगति की समीक्षा बैठक ली। प्रतापनगर, नरेन्द्रनगर, थौलधार के अन्तर्गत मनरेगा एवं आजीविका के कार्यों की खराब स्थिति पर डीएम नाराज नजर आए और उन्होंने सीडीओ अभिषेक रुहेला को कहा कि मार्च तक अगर इन तीनों ब्लॉक में कार्यों की स्थिति नहीं सुधरी तो नरेंद्रनगर के बीडीओ जयेंद्र सिंह राणा , प्रतापनगर के बीडीओ विजेंद्र खंडूड़ी और थौलधार के बीडीओ विनोद सिंह रावत को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के साथ रिवर्ट कर दिया जाए।

डीएम ने मनरेगा कार्यों की समीक्षा के दौरान कहा कि इस योजना के अन्तर्गत जॉब कार्ड धारक को एक वर्ष में 100 दिन के रोजगार देने का प्रावधान है। कार्ड धारक को रोजगार के लिए आवेदन करने के बाद 15 दिन के भीतर रोजगार दिया जाना चाहिए। रोजगार न दे पाने की स्थिति में सम्बन्धित आवेदनकर्ता को बेरोजगारी भत्ता दिये जाने का प्रावधान है। बैठक में पीडी भरत चंद्र भट्ट आदि मौजूद रहे।

विशेष