देश/प्रदेश

अव्यवस्थाओं के विरोध में एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने किया प्राचार्य का घेराव

देहरादून,डाकपत्थर स्थित वीर शहीद केशरी चंद राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में अव्यवस्थाओं के विरोध में एबीवीपी के सदस्यों ने प्राचार्य का घेराव किया। उन्होंने महाविद्यालय की अव्यवस्थाएं जल्द दूर करने की मांग की। ऐसा नहीं होने पर महाविद्यालय प्रशासन के खिलाफ आंदोलन की चेतावनी दी।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्रावास प्रमुख शुभम गर्ग के नेतृत्व में एबीवीपी के सदस्यों ने प्राचार्य का घेराव किया। कहा कि बीकॉम संकाय में शिक्षकों की शासन से नियुक्ति हो जाने के बाद भी तैनाती नहीं की जा रही है। जिसके चलते संकाय के विद्यार्थियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इसके अलावा महाविद्यालय में संचालित होने वाली बीए, बीएससी, बीकॉम व एम ए, एमएससी, एमकॉम की किताबें भी अभी तक छात्र-छात्राओं को उपलब्ध नहीं हो पाई हैं। महाविद्यालय में चल रही परीक्षाओं के मद्देनजर किताबें नहीं होने का खामियाजा छात्र-छात्राओं को भुगतना पड़ेगा।

घेराव के दौरान एबीवीपी के सदस्यों ने एमएससी जीव विज्ञान व वनस्पति विज्ञान की कक्षाओं को शीघ्र प्रारंभ किए जाने की मांग भी प्राचार्य से की।

महाविद्यालय प्रशासन यदि शीघ्र ही मांगों को पूरा नहीं करता है तो आंदोलन किया जाएगा। घेराव करने वालों में महाविद्यालय इकाई के अध्यक्ष अभिषेक चौहान, दीक्षिता धीमान, सूरज, आदित्य कन्नौजिया, रिहान, अर्जुन ङ्क्षसह, सिद्धार्थ, अभिषेक राणा, हर्षित चौधरी शामिल रहे।

शीशमबाड़ा स्थित सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट के पास क्रमिक अनशन व धरने पर बैठे क्षेत्रवासियों ने सहसपुर विधायक के आवास पर भूख हड़ताल करने की चेतावनी दी है।

उन्होंने कहा प्लांट के कारण क्षेत्र के लोगों को हो रही समस्याओं पर चुप्पी साधे क्षेत्रीय विधायक को जगाने के लिए ऐसा करना आवश्यक है।

शीशमबाड़ा कूड़ा निस्तारण केंद्र को हटाने की मांग को लेकर चल रहा क्रमिक अनशन व धरना 47वें दिन भी जारी रहा। धरने पर बैठे आंदोलनकारियों ने क्षेत्रीय विधायक पर क्षेत्रवासियों की उपेक्षा का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा क्षेत्र की जनता इतने लंबे समय से अपनी समस्या को लेकर संघर्ष कर रही है, बावजूद इसके क्षेत्रीय विधायक उनकी समस्या के समाधान को लेकर चुप्पी साधे हुए हैं। विधायक को अपने क्षेत्र की जनता के सामने खड़ी इस गंभीर समस्या पर अपना रुख साफ करना चाहिए।

विशेष