देश/प्रदेश

पुलिस को सख्त रुख अख्तियार करते हुए प्रदेश में 183 को गिरफ्तार किया

देहरादून। कोरोना के लगातार बढ़ते खतरे के बावजूद लॉकडाउन के बीच तफरीह करने का शौक पुलिस के लिए परेशानी का कारण बना हुआ है। हालांकि सरकार के निर्देश के बाद पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कदम भी उठा रही है, लेकिन सवाल यह है कि आम नागरिकों को हालात की गंभीरता समझ में क्यों नहीं आ रही है। एक बार फिर पुलिस को सख्त रुख अख्तियार करते हुए प्रदेश में 183 को गिरफ्तार किया।

कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के बाद भी लोग समझने को तैयार नहीं हैं कि शारीरिक दूरी की अवहेलना न सिर्फ उनकी, बल्कि उनके परिवार की जान के लिए खतरा पैदा कर सकता है। इसे देखते हुए पुलिस लॉकडाउन के उल्लंघन पर सख्ती से कार्रवाई कर रही है।

पुलिस महानिदेशक अपराध एवं कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने बताया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने को लेकर 37 मु़कदमे दर्ज किए गए। इसमें कुल 183 को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया है। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन उल्लंघन के मामले में प्रदेश में अब तक 308 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं, जिसमें 1711 आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है।

वहीं, प्रतिबंधित समय में बाइक व कार से सड़कों पर निकलने वालों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इसमें अब तक 6358 वाहनों का चालान किया गया है। 1687 वाहनों को सीज भी किया गया है। इस दौरान 27 लाख 85 हजार 520 रुपये बतौर संयोजन शुल्क भी वसूला गया। उन्होंने कहा कि नियम तोड़ने वालों के खिलाफ आगे भी कार्रवाई जारी रहेगी।

वहीं, हरिद्वार और रुड़की में लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर अलग-अलग जगहों से 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया। हरिद्वार में कलक्टेट में दुकान खोलने की अनुमति लेने आए लोग की भीड़ में सामाजिक दूरी का खूब मखौल उड़ा।

विशेष