देश/प्रदेश

11 मार्च से 15 जून तक चलने वाले मां पूर्णागिरि मेले को लेकर डीएम ने ली बैठक

चम्पावत: अगले माह से शुरू होने वाले मां पूर्णागिरि मेले की तैयारियों को लेकर मंगलवार को डीएम एसएन पांडे ने अधिकारियों के साथ बैठक कर जरूरी दिशा निर्देश दिए।

उन्होंने जल संस्थान से 20 फरवरी तक मेला क्षेत्र में पेयजल व्यवस्था सुचारू करने के निर्देश दिए। कहा कि मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को पानी की दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

गौरतलब है कि 11 मार्च से लेकर 15 जून तक मां पूर्णागिरि में मेले का आयोजन किया जाएगा। टनकपुर तहसील में आयोजित बैठक में डीएम पांडे ने कहा कि हर बार जिला प्रशासन द्वारा लाखों रुपये खर्च कर विद्युत, पानी, शौचालय, यात्री शेड समेत कई कार्यो पर पैसा खर्च करती है। जिससे काफी दिक्कत होती है।

कहा कि वह इस बार ऐसे प्रस्ताव रखें कि जिससे मेला क्षेत्र में स्थायी व्यवस्थाएं की जा सकें और हर बार होने वाले खर्च से बचा जा सके। अधिकारियों ने बताया कि मंदिर के पास 300 मीटर में डबल जाली लगाने का कार्य किया जा रहा है।

कहा जिला पंचायत को मुंडन, पार्किंग, विद्युत समेत अन्य ठेके पर होने वाले कार्यो की टेंडर प्रक्रिया जल्द कराकर कार्यो को समय से पूरा कराकर सुचारू कराएं। सीएमओ को स्वास्थ्य विभाग की टीमों को भी जल्द तैनात करने के आदेश दिए।

इस मौके पर सीएमओ डॉ. आरपी खंडूरी, एसडीएम दयानंद सरस्वती समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।जिला पंचायत ने डीएम से वर्ष 2011 से पूर्व की तरह मां पूर्णागिरि मेले को पूरी तरह से जिला पंचायत द्वारा कराने की मांग की है।

अपर मुख्य अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि 2011 से पूर्व मां पूर्णागिरि मेले में पूरा स्वामित्व जिला पंचायत का था। जिपं द्वारा ही दुकानों का आवंटन से लेकर अन्य कार्य संचालित कराया जाता था।

वर्ष 2011 में वनभूमि में दुकानें लगाने को लेकर लगाई गई पीआइएल के बाद तत्कालीन डीएम मेला अधिकारी व मेला मजिस्ट्रेट का संयुक्त खाता खोलकर कार्य करने के आदेश दिए। जिसके बाद से यह व्यवस्था तब से इसी प्रकार चलती आ रही है।

डीएम एसएन पांडे ने कहा कि व्यवस्था जैसे चल रही है। उसी प्रकार चलेगी। उसमें कोई परिवर्तन नहीं होगा। पूर्व डीएम ने सोच समझकर ही आदेश दिए हैं।

 

विशेष