देश/प्रदेश

मुकदमे वापस लेने को डीएम से लगाई गुहार

पौड़ी: विकासखंड कोट के दो दर्जन से अधिक ग्रामीणों को समन मिलने पर ग्रामीण नाराज हैं। ग्रामीणों ने रामकुंड-कादेखाल पेयजल योजना के लिए आंदोलन किया था। इस पर स्थानीय प्रशासन ने ग्रामीणों पर मुकदमे दर्ज किए थे। जिलाधिकारी ने इस संबंध में गृह विभाग के अनुसचिव को पत्र भेजा है। साथ ही एसएसपी की आख्या का भी उल्लेख किया गया है।

 

विकासखंड कोट के दो दर्जन से अधिक गांवों के ग्रामीणों ने रामकुंड-कादेखाल पेयजल पंपिग योजना की मांग के लिए अप्रैल-मई 2018 में आंदोलन किया था। हालांकि आंदोलन के बाद ग्रामीणों की मांग पर कार्रवाई कर दी गई थी, लेकिन साथ ही देवप्रयाग बाह बाजार थाने में ग्रामीणों पर मुकदमे भी दर्ज किए थे।

अब करीब पिछले एक वर्ष से कई ग्रामीणों को समन मिल रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि करीब 47 ग्रामीणों को समन मिल चुके हैं। प्रशासन ने 95 वर्षीय चंदा देवी को भी समन भेजा है। मंगलवार को ग्रामीणों ने जिलाधिकारी कार्यालय पहुंच डीएम धीराज सिंह गब्र्याल से वार्ताकर उन पर दर्ज मुकदमें वापस लेने की मांग की।

रामकुंड-कादेखाल पेयजल पंपिग योजना प्रयास विकास समिति के लक्ष्मण सिंह, इठ्ठन लाल ध्यानी, रोशन लाल, कल्याण सिंह व वैशाली देवी ने कहा कि ग्रामीणों ने मूलभूत आवश्यकता के लिए शांतिपूर्वक आंदोलन किया था, लेकिन अब ग्रामीणों को मुकदमें में फंसा कर समन भेजे जा रहे हैं। तीन आंदोलनकारियों का निधन भी हो चुका है।

उन्हें भी समन भेजा गया है। वहीं जिलाधिकारी धीराज सिंह गब्र्याल ने इस संबंध में गृह विभाग के अनुसचिव को पत्र भेजा है। जिसमें एसएसपी पौड़ी की आख्या का उल्लेख भी किया गया है। डीएम से वार्ता करने वालों में दिगंबर प्रसाद भट्ट, दरवान सिंह, गणेशमणि, गोविद सिंह, हरपाल आदि शामिल थे।

विशेष