अल्मोड़ा

भूधंसाव की जद में आने से स्टेट हाईवे के अस्तित्व पर संकट

???????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????????

रानीखेत : पर्यटन के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण समझा जाने वाला रानीखेत खैरना स्टेट हाईवे दो विभागों के फेर में अस्तित्व बचाने को जूझ रहा है। जगह-जगह होता भूधंसाव, गहरी होती दरारें भविष्य में बडे़ नुकसान की ओर इशारा कर रही हैं। बजट के अभाव में हाईवे पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं। समय रहते सुध नहीं ली गई तो बड़ा हादसा हो सकता है।

 

कुमाऊं के तमाम पर्यटन स्थलों को जोड़ने वाले रानीखेत खैरना स्टेट हाईवे को राष्ट्रीय राजमार्ग का दर्जा मिलने की कवायद शुरू होने व सैद्धांतिक स्वीकृति मिल जाने के बाद हाईवे के हालात सुधरने की उम्मीद जगी। लेकिन हालात दिनप्रतिदिन बिगड़ते ही चले गए। वित्तीय स्वीकृति न मिलने से सड़क का जिम्मा संभाल रहे लोनिवि को भी बजट नहीं मिल रहा है। जिसका खामियाजा आवाजाही करने वाले लोगों को भुगतना पड़ रहा है। जगह-जगह हो चुके गढ्डे दुर्घटना को दावत दे रहे हैं। वहीं कई स्थानों पर सुरक्षात्मक कार्य भी धराशाही हो चुके हैं।

स्टेट हाईवे पर रोजाना सेना के भार वाहन आवाजाही करते हैं। रानीखेत स्थित कुमाऊं रेजीमेंट सेंटर व गनियाद्योली स्थित एसएसबी के सीमात मुख्यालय को रसद व अन्य सेवाएं इसी मार्ग से जाती है। जिस कारण स्टेट हाईवे की काफी अहमियत है। पर्यटक सीजन भी नजदीक है। ऐसे में स्टेट हाईवे पर वाहनों का दबाव और अधिक बढ़ जाएगा।

स्टेट हाईवे का रखरखाव न होने व बिगड़ते हालात से अब पंचायत प्रतिनिधियों, व्यापारिक संगठनों से जुडे़ व्यापारी नेताओं, टैक्सी यूनियन पदाधिकारीयों का पारा भी चढ़ने लगा है। बीडीसी भूपेन्द्र देव, व्यापारी नेता गजेंद्र नेगी, महिपाल बिष्ट, टैक्सी यूनियन के कुंवर सिंह, प्रताप सिंह, जोगा सिंह आदि ने स्टेट हाईवे को समय रहते दुरुस्त किए जाने की माग उठाई है। चेताया है की यदि हीलाहवाली की गई तो आदोलन की रणनीति तैयार की जाए.

 

‘एनएच को रानीखेत खैरना स्टेट हाईवे की सैद्धातिक स्वीकृति तो मिल चुकी है पर वित्तीय स्वीकृति नहीं मिली है। ऐसे में दोनों विभागों में से किसी को बजट नहीं मिल रहा। फिलहाल गढ्डा मुक्त करने के लिए पेंच वर्क का कार्य किया जा रहा है। जिन स्थानों पर भूधंसाव हो रहा है। उनका जल्द स्थलीय निरीक्षण करेंगे।