पिथौरागढ़

प्राथमिक विद्यालय बलतिर की कब सुध लोगे सरकार

थल : प्राथमिक शिक्षा की बेहतरी के नाम पर करोड़ों की धनराशि खर्च करने के बाद भी व्यवस्था बदहाल है। कहीं स्कूलों में शिक्षक नहीं हैं तो कहीं जर्जर हाल भवन नौनिहालों की जिंदगी से खिलवाड़ करते दिख रहे हैं।

ऐसे ही विद्यालयों में शामिल है डीडीहाट तहसील का प्राथमिक विद्यालय बलतिर। विद्यालय में पढ़ने वाले 28 बच्चे क्षतिग्रस्त विद्यालय भवन के नीचे पढ़ाई को मजबूर हैं।

पैंतीस वर्ष पूर्व बना प्राथमिक विद्यालय भवन का लेंटर क्षतिग्रस्त है। लेंटर में लगा सीमेंट गिर रहा है, जंक लगी सरिया बाहर निकल आई हैं। हल्की सी बरसात में ही कक्षाओं में जल भराव की समस्या खड़ी हो जा रही है। पिछले पांच वर्षो से विद्यार्थी और शिक्षक इस समस्या को झेल रहे हैं।

बच्चों की सुरक्षा को लेकर चिंतित शिक्षक कड़ाके की ठंड में भी बच्चों को बरामदे में बैठाकर अध्यापन करने को मजबूर हैं। गर्मियों में खुले मैदान में बैठना बच्चों की मजबूरी है।

ग्राम प्रधान लक्ष्मी भट्ट का कहना है कि कई बार विद्यालय भवन की हालत में सुधार की मांग की जा चुकी है, लेकिन विभाग इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। ग्रामीणों ने कहा है कि विद्यालय में कोई हादसा होता है तो उसकी पूरी जिम्मेदारी शिक्षा विभाग की होगी।

विद्यालय भवन में समस्या है। सुधार का प्रस्ताव तैयार कर भेजा गया है। स्वीकृति मिलते ही विद्यालय भवन का सुधारीकरण कराया जाएगा।