देश/प्रदेश

नैनीताल ने जीता फुटबॉल अंडर-17 आयु वर्ग का खिताब

देहरादून, तृतीय राज्य स्तरीय खेल महाकुंभ के तहत बालक अंडर-17 आयु वर्ग की फुटबॉल प्रतियोगिता में नैनीताल ने पिथौरागढ़ को हराकर खिताब अपने नाम किया।

 

पवेलियन मैदान में चल रही फुटबॉल प्रतियोगिता में बालक अंडर-17 आयु वर्ग का फाइनल मुकाबला खेला गया। इसमें नैनीताल ने पिथौरागढ़ को 4-0 से करारी शिकस्त देकर खिताब अपने नाम किया। तीसरे स्थान के लिए बागेश्वर ने देहरादून को 5-4 से हराया।

वहीं, स्पोर्ट्स कॉलेज में आयोजित अंडर-12 आयु वर्ग की प्रतियोगिता के फाइनल में नैनीताल ने चंपावत को 2-1 से हराकर प्रथम स्थान प्राप्त किया। तीसरे स्थान के लिए ऊधमसिंह नगर ने पिथौरागढ़ को हराया। अंडर -14 आयु वर्ग के फाइनल में देहरादून ने नैनीताल को 5-1 से हराकर खिताब अपने नाम किया। तीसरे स्थान के लिए ऊधमसिंह नगर ने अल्मोड़ा को 3-2 से हराया।

तीरंदाजी में दून का दबदबा

 

महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज में आयोजित हुई बालक अंडर-14 तीरंदाजी के इंडियन राउंड में देहरादून के आदर्श नेगी प्रथम, दून के ऋषभ त्यागी दूसरे और हर्षवर्धन रावत तीसरे स्थान पर रहे। अंडर-17 आयु वर्ग के इंडियन राउंड में देहरादून के तरूण मेंगवाल प्रथम, दून के शोहेब सिंह दूसरे और पीयूष तीसरे स्थान पर रहे।

 

समापन पर बतौर मुख्य अतिथि उप निदेशक खेल एसके सार्की व जिला क्रीड़ाधिकारी राजेश ममगाईं ने सभी विजेताओं व उप विजेताओं को सम्मानित किया। इस दौरान युवा कल्याण संयुक्त निदेशक आरसी डिमरी, वित्त नियंत्रक बीएन पांडे, उप निदेशक अजय अग्रवाल समेत अन्य मौजूद रहे।

 

जल्द वजूद में आएगी स्टूडेंट फुटबॉल एसोसिएशन

 

स्कूल, कॉलेजों और विवि में फुटबॉल को नई पहचान देने के लिए स्टूडेंट फुटबॉल एसोसिएशन जल्द वजूद में आएगी। क्लब स्तर से हटकर अब स्कूल-कॉलेजों में पढ़ने वाले व फुटबॉल में दक्षता रखने वाले छात्रों को अलग से राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर खेलने का मौका मिलेगा।

 

उत्तराखंड में फुटबॉल को राज्य खेल का दर्जा प्राप्त है। ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन से मान्यता प्राप्त एसोसिएशन वजूद में भी है। एसोसिएशन क्लब व नेशनल स्तर पर प्रतियोगिताएं करा रही है। शिक्षा विभाग विद्यालयी स्तर पर फुटबॉल का आयोजन करता है। इसमें स्कूल और कॉलेजों में पढ़ने वाले खिलाड़ियों के लिए न तो कोई अलग से टूर्नामेंट होता है, न लीग। और न ही अलग से राष्ट्रीय स्तर पर कोई टीम भेजी जाती है।

 

निजी संस्थानों, कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र क्लबों के माध्यम से ही अपनी प्रतिभा दिखाते हैं। ऐसे छात्रों को अलग से मंच प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर स्टूडेंट फुटबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया का गठन किया गया है। इसकी ही राज्य इकाई का गठन जल्द किया जाएगा।

स्कूलों और कॉलेज के छात्रों पर होगा फोकस

 

एसएफएफआइ की महासचिव ईला रानी शर्मा के अनुसार, फेडरेशन का फोकस केवल स्कूल व कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों पर है। फुटबॉल को इस स्तर पर प्रोत्साहन दिया जाएगा। जल्द ही एसोसिएशन का गठन किया जाएगा, जो इंटर कॉलेजिएट लीग व इंटर स्कूल लीग का आयोजन करेगी। यहां से चुनी टीमें नेशनल में भाग लेंगी। जल्द ही एचआरडी मिनिस्ट्री से भी फेडरेशन अप्रूवल लेगी।

विशेष