देश/प्रदेश

डिफेंस मैन्यूफैक्चरिग हब बनेगा सिडकुल

DJLIY»F¢MXÑZMX ?FZÔ ?FiZÀF ?FF°FFÊ IYS°FZ ¶FF¹FZ ÀFZ QìÀFSZ À±FF³F ?FS ?F?£¹F?FÔÂFe IZY AF`ôFZd?FIY ÀF»FFWXIYFS OFG. IZYEÀF ?F?FFS, QF¹FZ AFZS ßF?F ÀFÔd?FQF ¶FFZOÊ IZY A²¹FÃF VF?FVFZS dÀFÔWX ÀF°¹FF»F, dþ»FF²¹FÃF dVF?F ASFZSF, d?F²FF¹FIY SFþI?Y?FFS NX?IYSF»FÜ þF?FS¯F

रुद्रपुर :सेना व पैरामिलिट्री फोर्स के जवानों के साथ ही अब सीमा पर उत्तराखंड के आयुध व अस्त्र-शस्त्र भी नजर आएंगे। सिडकुल में डिफेंस मैन्यूफैक्चरिग हब बनाने की तैयारी शुरू कर दी गई है। इसके लिए शासन ने सिडकुल अधिकारियों से वार्ता शुरू कर दी है।

 

रक्षा मामलों में भारत अब पूर्ण रूप से विदेश पर निर्भर नहीं रहा। कई तरह की मिसाइलें व आयुध अपने देश में बनने शुरू हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रक्षा मामलों में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के संकेत दिए हैं। इसके बाद उत्तराखंड में पहला डिफेंस मैन्यूफैक्चरिग हब ऊधमसिंह नगर में बनना है।

इसके लिए जमीन की तलाश शुरू कर दी गई है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के औद्योगिक सलाहकार डॉ. कुंवर सिंह पवार के मुताबिक सिडकुल क्षेत्र में जमीन की उपलब्धता के चलते डिफेंस के क्षेत्र में यह कारगर कदम साबित होगा।

यहां निर्मित आयुध देश की जरूरतों के अतिरिक्त निर्यात भी किए जाएंगे। इसके पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वह सोच शामिल है कि अगले पांच साल में डिफेंस से जुड़े अधिकांश उत्पादों को देश में बनाना है।

बढे़गा रोजगार

रक्षा क्षेत्र में मैन्युफैक्चरिग हब बनने से प्रदेश के लाखों लोगों को रोजगार मिलेगा। इसमें हजारों करोड़ रुपये का निवेश सरकारी स्तर पर किया जाना है। प्रदेश में स्थापित होने वाला यह अनोखा उपक्रम होगा।

डिफेंस मैन्यूफैक्चरिग हब बनाने की तैयारी की जा रही है। सिडकुल क्षेत्र में जमीन की कमी नहीं है, ऐसे में यह कार्य शीघ्र शुरू किया जाएगा।

विशेष