देश/प्रदेश

चार दशक से किराये के भवन में पुस्तकालय

चंबा: नगर क्षेत्र चंबा में ऐसा पुस्तकालय है जो पिछले पैंतालीस साल से किराये के कमरों में चल रहा है। अपना भवन न होने के कारण पुस्तकालय का स्थान भी बदलता रहता है। जिस कारण पाठकों को पुस्तकालय का सही प्रकार से लाभ नही मिल पा रहा है।

नगर क्षेत्र में एक मात्र राजकीय पुस्तकालय तो है, लेकिन उसका अभी तक अपना भवन नही है। अपना भवन न होने के कारण पुस्तकालय का स्थान भी बदलता रहता है। वर्तमान में पुस्तकालय नगर के ब्लॉक रोड में किराये के दो कमरों में चल रहा है। इससे पहले यह गजा रोड में था और उससे पहले करीब आधा दर्जन अलग-अलग जगहों से पुस्तकालय संचालित होता रहा है।

गौर करने वाली बात यह है कि नगर के अधिकांश लोगों को पुस्तकालय के बारे में जानकारी भी नही है। पुस्तकालय में वर्तमान में पुस्तकालय अध्यक्ष के अलावा एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी कार्यरत है।

पुस्तकालय में करीब सात हजार पुस्तकें हैं जिनका उपयोग न हुआ तो वे नष्ट भी हो सकती हैं। वर्ष 1974 में शहीद श्रीदेव सुमन के नाम से नगर क्षेत्र में पुस्तकालय खोला गया, लेकिन भवन आज तक नही बन पाया है। पुस्तकालय शिक्षा विभाग के अधीन है।

साहित्यकार सोमवारी लाल सकलानी का कहना है कि नगर में पुस्तकालय है तो उसका भवन भी होना जरूरी है। तभी लोग पुस्तकें पढ़ पाएंगे और पुस्तकों का रख-रखाव भी हो पाएगा। ।

विशेष