देश/प्रदेश

चम्पावत के एसपी की सख्ती के बाद नेपाल के कसिनो में भारतीयों की आवक हुई कम

टनकपुर: नेपाल के कसिनो में दर्जनों भारतीयों के बर्बाद होने के बाद पुलिस ने इसमें सख्ती करनी शुरू कर दी। पुलिस की सख्ती व कसिनो में लोन बांटने वाले लोगों के नाम उजागर होने के बाद कसिनो में भारतीयों की आवक कम हो गई।

प्रतिदिन 30 से 40 करोड़ रुपये की कमाई करने वाले कसिनो की आय पांव से दस करोड़ में सिमट गई है। कसिनो की घटती आय से परेशान कसिनो संचालकों ने भारतीयों को तरह-तरह के प्रलोभन देने शुरू कर दिए।

 

भारत से लगे नेपाल के कैसिनो में अब तक दर्जनों भारतीय बर्बाद हो चुके है। वर्ष 2005 में पहले यह महेंद्र नगर के ओपेरा होटल में खुला था। तब से भारतीयों का बर्बाद का सिलसिला जारी हो गया था।

हाल ही सूखासाल क्षेत्र में दूसरा कसिनो खुलने के बाद अब एक नहीं दो-दो कसिनों भारतीयों को बर्बाद करने में जुट गए। वहीं कसिनो में हारने के बाद कुछ भारतीयों द्वारा उन्हें मोटे ब्याज पर लोन भी मुहैया कराया जा रहा है। कसिनो के अंदर बने मयखाने में मोटी रकम खेलने वालों को फ्री में खिलाया-पिलाया भी जा रहा है।

इसके बाद भी भारतीय कसिनो जाने से बाज नहीं आ रहे हैं। एक पखवाड़े पूर्व एसपी लोकेश्वर सिंह ने कसिनो पर सख्ती करने के बाद रात्रि सात बजे बॉर्डर पर पूरी तरह आवाजाही बंद करने के आदेश दिए।

साथ ही मोटे ब्याज पर लोन बांटने वाले करीब 25 लोगों के नाम पुलिस ने उजागर कर दिए। जिसके बाद पुलिस ने बॉर्डर पर लोगों को जागरूक किया। जिसके चलते कसिनो में भारतीयों की आवाजाही कम हो गई। जिससे कसिनो को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

इस नुकसान की भरपाई करने के लिए अब कैसिनो संचालक भारतीयों को आकर्षित करने के लिए तरह-तरह के लालच देने लगे हैं। बहरहाल पुलिस की खुफिया विभाग भी कसिनो के दिए जा रहे लालच को लेकर सक्रिय हो गई है।

विशेष