देश/प्रदेश

कैश एंड कैरी के नाम पर लाखों की लूट

रुद्रपुर : रसोई गैस सिलेंडर यदि गोदाम जाकर लिया जाए तो ग्राहक को कुल कीमत में 27 रुपये 60 पैसे छूट देने का प्रावधान है। यदि यही सिलेंडर हॉकर घर तक पहुंचाता है तो यह पैसे उसे मिल जाते हैं।

सीएनसी यानी कैश एंड कैरी योजना में यह प्रावधान किया गया है, लेकिन ग्राहकों को योजना की जानकारी देने के बजाय एजेंसी संचालक इस पैसे को अपनी जेब के हवाले कर रहे हैं। इसमें लाखों रुपये का गोलमाल किया जा रहा है।

 

एलपीजी सिलेंडर वर्तमान समय में हर घर की जरूरत बन गए हैं। ग्राहकों को सिलेंडर की आपूर्ति देने के लिए जिले में इंडेन, भारत गैस व एचपी आदि कंपनियों की एजेंसी है। जिसके माध्यम से ग्राहकों को यह सुविधा दी जा रही है। जिन ग्राहकों को होम डिलीवरी में गैस सिलेंडर नहीं मिलते हैं, वह एजेंसी आकर सिलेंडर प्राप्त करते हैं। ऐसे ग्राहकों को लिए कैश एंड कैरी योजना है।

जिसके प्रचार-प्रसार की जिम्मेदारी भी गैस आपूर्ति देने वाली कंपनी व एजेंसी पर है, लेकिन लोगों को जागरूक करने के बजाए एजेंसी संचालक अपनी जेब भरने में लगे हुए हैं।

जिला मुख्यालय के गाबा चौक स्थित गैस एजेंसी के मैनेजर मनोज पांडे ने बताया कि माह में एक से दो लोगों को ही इस योजना का लाभ मिला है, जो व्यक्ति खुद से कैश एंड कैरी का लाभ मांगता है। उससे औपचारिकता पूरी कराने के बाद योजना से जोड़ा जाता है।

गैस सिलेंडर को घर तक पहुंचाने की जिम्मेदारी संबंधित एजेंसी व वितरक की होती है। ऐसे में गैस की पर्ची पर जो मूल्य अंकित होता है। उसी में हॉकर का कमीशन भी होता है। इस तरह ग्राहकों के लिए होम डिलीवरी निश्शुल्क रखी गई है। इसके बाद भी ग्राहकों से अतिरिक्त पैसे वसूलने की शिकायत आए दिन मिलती रहती है।

कैश एंड कैरी योजना की जानकारी वाल राइटिग या फ्लैक्सी के जरिए गोदाम और एजेंसी पर अंकित होनी चाहिए। गोदाम से सिलेंडर लेने व होम डिलीवरी का अलग-अलग चार्ज भी लिखा जाता है। यदि इसमें कोई दिक्कत है तो जांच की जाएगी

विशेष