देश/प्रदेश

कैंट के खिलाफ निदा प्रस्ताव पास

लैंसडौन: क्षेत्र पंचायत जयहरीखाल की बैठक में छावनी परिषद की मनमानी पार्किंग वसूली के खिलाफ निदा प्रस्ताव पारित किया गया। ऊर्जा निगम के सतपुली डिवीजन के एसडीओ के बैठक में न उपस्थित होने पर पंचायत प्रतिनिधियों ने गहरा रोष जताते हुए कार्यवाही की बात कही है। बैठक में स्वजल व पर्यटन विभाग के अधिकारियों को ब्लाक में अपनी उपस्थिति माह में एक बार भी न देने पर दोनों ही अधिकारियों को फटकार लगाई गई।

मंगलवार को जयहरीखाल ब्लॉक सभागार में ब्लॉक प्रमुख दीपक भंडारी की अध्यक्षता में हुई बैठक में पंचायत प्रतिनिधियों ने आरोप लगाया की लैंसडौन नगर में तहसील मुख्यालय, कोषागार समेत कई महत्वपूर्ण विभागों के कारण ग्रामीणों को आए दिनों आना पड़ता है।

कैंट की ओर से प्रति वाहन सौ रुपये प्रवेश शुल्क वसूलने के बाद नगर के विभिन्न इलाकों में पार्किंग के नाम पर मनमाने शुल्क की वसूल कर ग्रामीणों का शोषण किया जा रहा है। बीडीसी बैठक में कैंट के खिलाफ निदा प्रस्ताव पारित करके हुए रक्षा मंत्री को समस्या के निस्तारण के लिए प्रस्ताव भेजने की बात कही गई।

बैठक में पंचायत प्रमुख दीपक भंडारी ने सिचाई व लघु सिचाई विभाग को साफ निर्देश दिए की जिन इलाकों में खेती की जा रही है, उन्हीं क्षेत्रों में सिचाई गूलों का निर्माण किया जाए।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु खुराना ने भी चैक डैम विकसित करने की बात पर जोर दिया। बैठक में स्वजल विभाग की कार्यप्रणाली को लेकर भी पंचायत प्रतिनिधि नाराज दिखे। पंचायत प्रतिनिधियों ने आरोप लगाया की स्वजल की ओर से विभाग की योजनाओं की जानकारी उन्हें नही दी जा रही है।

ज्येष्ठ उपप्रमुख अजय शंकर ढौंडियाल ने पर्यटन विभाग की ओर से किसी भी अधिकारी के ब्लाक में माह में एक बार भी न आने पर रोष जताया। बैठक में ढकसुण की क्षेपं सदस्य चंद्रलेखा गौड़ ने चमेठा-ढौलखतखाल मार्ग को शहीद विजय गौड़ के नाम पर रखने, तोली की ग्राम प्रधान विपिन्न धस्माना ने तोली में विद्युतीकरण का मुद्दा उठाया।

बैठक में लैंसडौन-गुमखाल मोटर मार्ग की खस्ताहाल स्थिति के अलावा बंदरो व सुअरों से फसलों को नुकसान पहुंचने, खड़कोली-मलारा में टीकरण टीम के न पहुंचने का मुद्दा भी छाया रहा।

बैठक का संचालन बीडीओ राजेंद्र सिंह बिष्ट ने किया। इस मौके पर एसडीएम अपर्णा ढौडियाल, ज्येष्ठ उपप्रमुख अजय शंकर ढौडियाल, कनिष्ठ उपप्रमुख अनुभा रावत आदि मुख्य रूप से मौजूद थे।

 

विशेष