देश/प्रदेश

इस बार रानीखेत नहीं इंग्लैंड में होगा भारत और ब्रितानी सेना का संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास

रानीखेत : दुनिया की महाशक्ति अमेरिका के साथ वर्ष 2018 में 14वें संयुक्त सैन्याभ्यास के बाद भारतीय सेना अब ब्रितानी सेना के साथ संयुक्त सैन्य युद्ध अभ्यास करेगी। मगर इस बार युद्धाभ्यास रानीखेत के चौबटिया में नहीं बल्कि इंग्लैंड की जमीन पर होगा।

‘अजेय वॉरियर-2020’ की थीम पर इस संयुक्त सैन्याभ्यास में 14-डोगरा बटालियन के जांबाज भारतीय सैन्य परंपरा व गौरव का प्रतिनिधत्व करेंगे। रक्षा सहयोग, सामरिक संबंधों की मजबूती के साथ ही वैश्विक समस्या आतंकवाद के खात्मे को यह संयुक्त सैन्य युद्ध अभ्यास कई माइनों में अहम माना जा रहा है।

 

युद्ध अभ्यास 13 से 26 फरवरी तक चलेगा

रानीखेत में तैनात भारतीय सेना की 14-डोगरा रेजिमेंट के कमान अधिकारी कर्नल अमित सैनी ने बताया कि बटालियन देश व सेना का मान बढ़ाते हुए इंग्लैंड में साझा युद्ध अभ्यास के लिए तैयार है।

युद्ध अभ्यास 13 से 26 फरवरी तक चलेगा। कर्नल सैनी के अनुसार हमारे सैन्य दल ने इस युद्ध अभ्यास के लिए उच्चकोटी के रणकौशल की हर संभव तैयारी को अंजाम देते हुए अपने आप को तैयार कर लिया है। साथ ही यह विश्वास दिलाया कि अपने युद्ध कौशल, तकनीकी और सामरिक शक्ति को साझा करते हुए उच्च कोटि का प्रदर्शन करेंगे।

 

‘काउंटर टेरेरिज्म ऑपरेशंस’ की हर तकनीक का प्रदर्शन

 

‘अजेय वॉरियर-2020’ का उद्देश्य दोनों राष्ट्रों के बीच सैन्य रिश्तों में प्रगाढ़ता लाना है। दोनों देशों की सेना संयुक्त राष्ट्र के शासनादेश के अनुरूप ‘काउंटर टेरेरिज्म ऑपरेशंस’ की हर तकनीक का प्रदर्शन करेंगी।

संयुक्त सैन्य युद्धाभ्यास में कांबैट शूटिंग, अनआर्म्‍ड कांबैट, रॉक क्राफ्ट ट्रेनिंग आदि तमाम रणनीतिक कौशल का प्रशिक्षण व तकनीक साझा की जाएगी। याद रहे भारतीय सेना की 14-डोगर बटालियन के बहादुर सैनिकों ने वर्ष 2018 में गरुड़ डिवीजन के अधीन अमेरिका के साथ संयुक्त सैन्य युद्ध अभ्यास में भी जांबाजी का लोहा मनवाया था।

विशेष