देश/प्रदेश

आपदा प्रभावितों ने किया लोनिवि के ईई का घेराव

DJLAFSFIYFZMX ¸FZÔ BÀF °FSW ÀFZ MXìMXZ ´FOÞXZ W`Ô ¸FFZMXS ´F¼»FÜ ªFF¦FS¯F

पुरोला : मोरी के आपदा प्रभावित आराकोट बंगाण की सड़कें, पेयजल व विद्युत व्यवस्था आपदा के सात माह बाद भी बदहाल स्थिति में हैं। दूर दराज गांव की पेयजल व विद्युत लाइनों की मरम्मत नहीं हुई है।

आराकोट क्षेत्र के आपदा पीड़ितों ने पुरोला पहुंच कर लोनिवि के ईई का घेराव किया। प्रभावितों ने आपदा प्रभावित क्षेत्र का बजट अन्यत्र ठिकाने लगाने का आरोप लगाया। प्रभावितों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी भेजा।

 

प्रभावितों ने कहा कि आपदा प्रभावित आराकोट क्षेत्र की त्यूणी-आराकोट, आराकोट-मोलडी-टिकोची, चिवां-बालचा-मोंडा, डगोली आदि मार्गों की स्थिति बेहद ही खराब है।

जबकि, इन सड़कों पर मलबा हटाने के नाम पर ही करोड़ों का बजट ठिकाने लगा दिया गया है। प्रभावितों ने कहा कि लोनिवि ने 25 निविदाएं जारी की हैं, लेकिन, इन निविदाओं में एक भी काम आराकोट क्षेत्र के लिए नहीं है। इस लिए इन निविदाओं को निरस्त कर पहले प्रभावित क्षेत्र में काम कराया जाए।

ईई का घेराव करने वालों में मनमोहन सिंह चौहान, देवेंद्र राणा, किशोर सिंह राणा, राजेंद्र चौहान, धर्मेंद्र सिंह आदि थे। वहीं ईई धीरेंद्र कुमार का कहना है कि आराकोट क्षेत्र में सड़क व पुलों की मरम्मत का कार्य चल रहा है। जो निविदाएं जारी की गई हैं वे नए स्वीकृत कार्यों की हैं।

विशेष