देश/प्रदेश

अस्पताल के आवासों में अनाधिकृत रूप से रह रहे कर्मचारी होंगे बाहर

देहरादून,  अस्पताल के आवासीय परिसर में अनाधिकृत रूप से रह रहे कर्मचारियों को आवास खाली करने होंगे। जिलाधिकारी डॉ. आशीष श्रीवास्तव ने इस बावत अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने ऐसे कर्मचारियों को नोटिस देकर 15 दिन के भीतर आवास खाली करवाने को कहा है।

गांधी शताब्दी नेत्र चिकित्सालय में कोरोनशन और गांधी अस्पताल (जिला अस्पताल) की प्रबंधन समिति की बैठक हुई। इस मौके पर जिलाधिकारी ने कहा यदि 15 दिन में आवासों को खाली नहीं किया जाता है, तो चिकित्सालय प्रबंधन बलपूर्वक इन्हें खाली करवाए।

इसके साथ ही दोनों चिकित्सालयों को शीघ्रता से केंद्र सरकार के जैम पोर्टल पर पंजीकरण करवाने और कोरोनेशन में संचालित फोर्टिस अस्पताल के भविष्य में किराये के निर्धारण को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय में आवेदन प्रस्तुत करने को कहा।

साथ ही यह निर्देश दिए कि चिकित्सालयों में विभिन्न उपकरणों और निर्माण कार्यों की टेंडरिंग प्रक्रिया को भी नियमानुसार समय से पूर्ण कराया जाए।

बजट खर्च में दवा, जांच आदि को प्राथमिकता

 

जिलाधिकारी ने पूर्व के लंबित बीजक और साफ-सफाई से संबंधित कार्यों का स्पष्ट विवरण प्रस्तुत करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। इस दौरान दोनों चिकित्सालयों के लिए पांच करोड़ का अनुमानित बजट स्वीकृत किया गया। वहीं उपलब्ध संसाधनों और बेहतर चिकित्सा सुविधाओं के विकास पर चर्चा की गई।

 

जिलाधिकारी ने प्रबंध समिति को बजट खर्च में अन्य प्रशासनिक व परिचालन खर्च के मुकाबले दवा, स्वास्थ्य परीक्षण, पैथौलॉजी आदि सुविधाओं को देने में प्राथमिकता से कार्य करने के निर्देश दिए। साथ ही बजट निर्धारण के वित्तीय पहलुओं में मुख्य कोषाधिकारी का सहयोग लेने तथा भवन निर्माण व उपकरणों की खरीद के तकनीकी पहलुओं के संबंध में लोक निर्माण, जल संस्थान, सिंचाई विभाग जैसे तकनीकी विभागों का सहयोग लेने को कहा।

डाटा एंट्री ऑपरेटर की नियुक्ति के संबंध में उन्होंने कहा कि नियुक्ति से पूर्व वेतन देने का मद सुनिश्चित कर लें। लेकिन किसी भी दशा में यूजर चार्ज वाले मद से कार्मिकों का वेतन आहरण न करें।

इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मीनाक्षी जोशी, मुख्य कोषाधिकारी नरेंद्र सिंह, प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बीसी रमोला सहित सांसद प्रतिनिधि, क्षेत्रीय विधायक के प्रतिनिधि व महापौर के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

 

विशेष